मल्टीमीडिया डेस्क। लोकसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण में 18 अप्रैल, गुरुवार को मतदान है। पहले चरण में 11 अप्रैल को 20 राज्यों की 91 सीटों पर वोटिंग हुई थी, जिनमें छत्तीसगढ़ की 1 सीट, बस्तर भी शामिल थी। दूसरे चरण में 13 राज्यों की 97 लोकसभा सीटों पर वोटिंग होगी। इनमें असम (5), बिहार (5), छत्तीसगढ़ (3), जम्मू-कश्मीर (2), कर्नाटक (14), महाराष्ट्र (10), मणिपुर (1), ओडिशा (5), तमिलनाडु (39), त्रिपुरा (1), उत्तर प्रदेश (8), पश्चिम बंगाल (3) और पुडुचेरी (1) शामिल हैं। छत्तीसगढ़ की जिन तीन सीटों पर मतदान होगा, उनके नाम हैं - राजनांदगांव, महासमुंद और कांकेर। (नीचे जानिए छत्तीसगढ़ पूरा शेड्यूल) छत्तीसगढ़ में इस बार भी मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है, लेकिन 2004, 2009 या 2014 के आम चुनावों की तुलना में 2019 का चुनाव अलग होगा, क्योंकि पिछले तीन लोकसभा चुनावों के समय विधानसभा में भाजपा का शासन था, लेकिन 15 साल बाद अब कांग्रेस सत्ता में लौट चुकी है। शायद विधानसभा चुनाव में मिली इसी करारी हार का नतीजा है कि भाजपा ने किसी भी मौजूदा एमपी को टिकट नहीं दिया है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 11 में से 10 सीटों पर जीत दर्ज की थी।

छत्तीसगढ़ में लोकसभा की कुल 11 सीटें हैं, जिनके नाम हैं - बस्तर, राजनांदगांव, महासमुंद, कांकेर, सरगूजा, रायगढ़, जांजगीर-चांपा, कोरबा, बिलासपुर, दुर्ग और रायपुर।

छत्तीसगढ़: 11 सीटें, 3 चरण में वोटिंग

पहला चरण

अधिसूचना जारी: 18 मार्च (सोमवार)

नामांकन की आखिरी तारीख: 25 मार्च (सोमवार)

नामांकन की छंटनी: 26 मार्च (मंगलवार)

मतदान: 11 अप्रैल (गुरुवार) को 11 में से एक सीट, बस्तर पर वोटिंग हो चुकी है।

दूसरा चरण

अधिसूचना जारी: 19 मार्च (मंगलवार)

नामांकन की आखिरी तारीख: 26 मार्च (मंगलवार)

नामांकन की छंटनी: 27 मार्च (बुधवार)

मतदान: 18 अप्रैल (गुरुवार) को 3 सीटों, राजनांदगांव, महासमुंद और कांकेर पर वोटिंग होगी।

तीसरा चरण

अधिसूचना जारी: 28 मार्च (गुरुवार)

नामांकन की आखिरी तारीख: 4 अप्रैल (गुरुवार)

नामांकन की छंटनी: 5 अप्रैल (शुक्रवार)

मतदान: 23 अप्रैल (मंगलवार) को 7 सीटों, सरगुजा, रायगढ़, जांजगीर-चांपा, कोरबा, बिलासपुर, दुर्ग और रायपुर पर वोटिंग होगी।

मतगणना: 23 मई (गुरुवार) को मतगणना होगी।

मुद्दे जिन पर होगा मतदान

छत्तीसगढ़ के मतदाताओं के लिए नक्सलवाद, गरीबी, बेरोजगारी और आदिवासियों को पलायन आज भी सबसे बड़े मुद्दे हैं।

बड़े नेता जिनकी प्रतिष्ठा दांव पर

छत्तीसगढ़ में इस बार का चुनाव कई नेताओं के लिए प्रतिष्ठा की लड़ाई बन गया है। विधानसभा चुनाव की बड़ी कायमाबी के बाद कांग्रेस के बड़े नेताओं, भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू, चरणदास महंत की यह पहली परीक्षा है। वहीं भाजपा में रमन सिंह और धरमलाल कौशिक को अपना जादू दिखाने का एक और मौका है।

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election Dates 2019: जानिए किस राज्य में कितनी सीटों पर कब मतदान