भोपाल, नवदुनिया स्टेट ब्यूरो। लोकसभा चुनाव का शंखनाद होते ही मध्यप्रदेश की सभी 29 सीटों पर आयकर विभाग ने अपनी निगरानी बढ़ा दी है। खासतौर पर हाई प्रोफाइल सीटों को विशेष निशाने पर रखा गया है। प्रदेश के सभी 52 जिलों में कालेधन और बेहिसाब नकदी की आवाजाही की छानबीन शुरू की गई है। विभाग ने इस मुहिम में अपनी खुफिया विंग को भी सक्रिय कर दिया है। आयकर विभाग की इन्वेस्टीगेशन विंग ने सभी जिलों में तैनात आयकर अधिकारियों को भोपाल में बनाए गए कंट्रोल रूम से जोड़ दिया है। इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर और खजुराहो हवाई अड्डे पर 24 घंटे आयकर अधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है।

हवाईअड्डे की सुरक्षा से जुड़े मैदानी अधिकारियों और स्थानीय पुलिस के साथ समन्वय के लिए नोडल अधिकारी भी बनाए गए हैं। इनके अलावा रतलाम, उज्जैन, खंडवा, सागर, पन्ना, सतना और छिंदवाड़ा शहर में हवाई पट्टी पर उतरने वाले छोटे हवाई जहाजों से आने-जाने वालों पर भी नजर रखी जा रही है। सूत्रों का कहना है कि प्रदेश की ऐसी हाई प्रोफाइल सीटें जहां अधिक चुनावी खर्च होने की संभावना है उन इलाकों में विशेष खुफिया तंत्र तैनात किया गया है। बैंकों से निकलने वाली बड़ी राशि का भी रिकार्ड रखा जा रहा है। बताया जाता है कि अनौपचारिक रूप से हवाला और हुंडी कारोबार से जुड़े संदिग्ध लोगों की गतिविधियों पर नजर रखने विभाग ने अपने मुखबिरों को सक्रिय कर दिया है।

80 लाख नकदी की आयकर विभाग ने शुरू की छानबीन

आयकर विभाग की इन्वेस्टीगेशन विंग ने इंदौर और मुरैना में पकड़े गए लाखों रुपए नकदी के मामले में पूछताछ और छानबीन शुरू कर दी है। वैध दस्तावेज नहीं मिलने पर जब्ती की कार्रवाई की जाएगी। विभागीय सूत्रों ने बताया कि दिल्ली से ग्वालियर आ रही कार की चंबल पुल के पास पुलिस ने जब जांच की तो उसमें 51 लाख 50 हजार रुपए नकद मिले।

कार सवार नकदी के बारे में तुरंत समाधानकारक जवाब और दस्तावेज नहीं दे पाए। दूसरा मामला इंदौर से अहमदाबाद जा रही बस का है, जिसकी जांच में दो व्यक्तियों के पास से 29 लाख 50 हजार रुपए नकद बरामद हुए। दोनों मामलों की सूचना मिलने के बाद आयकर विभाग ने संबंधित लोगों के सभी ठिकानों पर पूछताछ और दस्तावेजों की जांच शुरू कर दी है। नकदी राशि का स्रोत और वैध दस्तावेज की जानकारी नहीं मिलने पर जब्ती की कार्रवाई की जाएगी।