नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के सातवें और आखिरी चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग कुछ ही देर में शुरू होगी। जिन राज्यों में प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी, वे हैं - बिहार (8), झारखंड (3), मध्य प्रदेश (8), पंजाब (13), पश्चिम बंगाल (9), चंडीगढ़ (1), उत्तर प्रदेश (13) और हिमाचल प्रदेश (4)। जिन दिग्गज नेताओं की किस्मत दांव पर हैं, उनमें सबसे बड़ा नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का है।

मोदी वाराणसी से मैदान में हैं, जिनके खिलाफ कांग्रेस ने अजय राय को उतारा है। अजय राय 2014 के चुनाव में भी मोदी से हारे थे। इस बार प्रियंका गांधी ने रोड शो किया है।

वहीं गठबंधन की ओर से सपा ने बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव को उम्मीदवार बनाया था, लेकिन उनका पर्चा खारिज होने पर शालिनी यादव को प्रत्याशी बनाया है। अतीक अहमद भी निर्दलीय लड़ रहे हैं। जानिए अन्य दिग्गज नेताओं के बारे में -

इस चरण में यूपी की दूसरी बड़ी सीट है गोरखपुर। यह सीट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मभूमि रही है। भाजपा ने इस बार भोजपुरी सुपरस्टार रवि किशन को उतारा है, जबकि गठबंधन की ओर से रामभुआल निषाद मैदान में हैं। कांग्रेस प्रत्याशी मधूसूदन त्रिपाठी भी जीत की आस लगाए बैठे हैं।

यूपी की मिर्जापुर सीट से केंद्रीय मंत्री और अपना दल उम्मीदवार अनुप्रिया पटेल त्रिकोणीय लड़ाई में फंसी हैं। सपा ने रामचरित्र निषाद को उतारा है तो कांग्रेस ने फिर ललितेश त्रिपाठी पर दांव खेला है।

पंजाब की सभी 13 लोकसभा सीटों इस चरण में वोटिंग होगी। यहां अमृतसर से भाजपा प्रत्याशी हरदीप पुरी की प्रतिष्ठा दांव पर है। इसी तरह गुरदासपुर से भाजपा ने सनी देओल को उतारा है, जिनका मुकाबला बलराम जाखड़ के बेटे सुनील जाखड़ से है।

इसी तरह शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल फिरोजपुर से चुनाव लड़ रहे हैं। उनके सामने कांग्रेस ने शेर सिंह घुबाया को उतारा है। रोचक बात यह है कि घुबासा पिछली बार शिरोमणि अकाली दल के टिकट पर ही चुनाव जीते थे। सुखबीर की पत्नी और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बठिंडा मैदान में है।

आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भगवंत मान संगरूर सीट से फिर मैदान में हैं। उनके मुकाबला कांग्रेस के केवल सिंह ढिल्लों और शिरोमणि अकाली दल के परमिंदर सिंह ढींडसा से है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की साथ पटियाला सीट से सीधी जुड़ी है, क्योंकि पिछले चुनाव में आम आदमी पार्टी के धर्मवीर गांधी के हाथों हार का सामना करने वालीं कैप्टन की पत्नी परनीत कौर इस बार फिर मैदान में हैं। गांधी इस बार पंजाब डेमोक्रेटिक अलायंस से लड़ रहे हैं।

बिहार में अंतिम चरण के मुकाबले में 8 सीटों पर दांव है। सबकी नजर मोदी सरकार में मंत्री रविशंकर प्रसाद की पटना साहिब सीट पर टिकी है। यहां उनका मुकाबला शत्रुघ्न सिन्हा से है। वहीं एक और केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव पाटलिपुत्र से फिर मैदान में हैं, जिनके खिलाफ महागठबंधन ने लालू की बेटी मीसा भारती को उतारा है।इसी तरह अश्विनी चौबे बक्सर और आरके सिंह आरा से मैदान में हैं। सासाराम में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार और भाजपा सांसद छेदी पासवान के बीच लड़ाई है।

हिमाचल प्रदेश की हमीरपुर सीट से भाजपा की ओर से तीन बार के सांसद अनुराग ठाकुर प्रत्याशी हैं, जबकि कांग्रेस की ओर से तीन बार हारने वाले रामलाल ठाकुर को उतारा है।

केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ की एकमात्र संसदीय सीट। भाजपा की किरण खेर यहां से सांसद हैं। जिनका मुकाबला कांग्रेस के पवन बंसल से हैं, जो यहां से चार बार सांसद चुने जा चुके हैं।