मल्टीमीडिया डेस्क। लोकसभा की 543 सीटों के लिए सात चरणों में चुनाव होंगे। लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में 20 प्रदेशों की 91 सीटों पर वोटिंग 11 अप्रैल, गुरुवार को है। अरुणाचल प्रदेश में दो लोकसभा सीटें है और दोनों अरुणाचल पूर्व, अरुणाचल पश्चिम सीटों पर वोटिंग हो रही है। अरुणाचल प्रदेश की 60 विधानसभा सीटों पर लोकसभा चुनाव के साथ ही मतदान हो रहा है। मालूम हो, सभी सीटों के नतीजे 23 मई को घोषित होंगे। इन चुनावों में 13583 फीट पर सबसे ऊंचाई पर बनने वाला पोलिंग स्टेशन होगा। 11 पोलिंग स्टेशन केवल महिलाओं के लिए है।

अरुणाचल प्रदेश पश्चिम लोकसभा सीट:

अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव में अरुणाचल पश्चिम सीट पर भाजपा के नेता व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू के खिलाफ कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी को मैदान में उतारने का फैसला किया है।

इसके अलावा एनपीपी के ख्योडा अपिक मैदान में उतरे हैं। यहां पर जनता दल की जरजुम इटे भी चुनाव लड़ रही हैं। 56 साल की पहली ऐसी महिला हैं जिसे अरुणाचल प्रदेश में किसी पार्टी ने टिकट दिया।

ये बाल विवाह और महिला अधिकारों के नाम पर वोट मांग रही है। खास बात यह भी है कि इस राज्य में 794162 वोटर्स है जिसमें चार लाख से ज्यादा महिलाएं है। कुल मिलाकर 7 प्रत्याशी मैदान में हैं।

अरुणाचल प्रदेश पूर्व लोकसभा सीट:

इस सीट के लिए 5 प्रत्याशी मैदान में है। बीजेपी से तापिर गाओ, कांग्रेस से लवांगछा वांगलात, पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल से मोंगोल योसमो, जनता दल(सेक्युलर) से बेंडे मिल और निर्दलीय उम्मीदवार सीसी सिंगफों का नाम शामिल है। मुख्य मुकाबला बीजेपी और कांग्रेस के बीच ही है। तापिर गाओ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष है और पूर्व सांसद रहे हैं।

बता दें कि इस सीट पर शुरुआत से ही कांग्रेस पार्टी का दबदबा रहा है। पूर्व सीट पर अब तक 11 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं, जिनमें से कांग्रेस को 7 बार जीत मिली है। साल 2004 में बीजेपी के तापिर गाओ ने यहां से जीत दर्ज की थी। फिलहाल इस सीट पर कांग्रेस पार्टी के निनोंग इरिंग का कब्जा है। उन्होंने साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के प्रत्याशी को हराया था। इससे पहले 2009 के लोकसभा चुनाव में भी निनोंग इरिंग ने ही इस सीट पर जीत दर्ज की थी।