नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, लोकसभा चुनाव 2019 में मिली करारी हार के बाद, पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर आमादा हैं। मगर पार्टी नेता और कार्यकर्ता उन्हें अपना निर्णय बदलने के लिए मना रहे हैं। अब इस मामले मे जानकारी सामने आई है कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने राहुल गांधी से कहा है कि वे इस्तीफा न दें। हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष से मिलने तुगलक लेन स्थित उनके आवास पर गईं, शीला दीक्षित को वापस लौटना पड़ा।

इसी तरह से राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने मंगलवार को राहुल से मुलाकात की कोशिश की थी मगर वह उनसे नहीं मिले। जिसके बाद राजस्थान कांग्रेस ने बुधवार को राहुल के इस्तीफे की पेशकश खारिज करने के कार्यसमिति के प्रस्ताव का समर्थन करते हुए उनके नेतृत्व में भरोसा जताने का प्रस्ताव पारित किया।

राहुल के नेताओं से न मिलने क बाद अब कांग्रेस नेता प्रस्ताव पारित कर राहुल की पेशकश ठुकराते हुए उनके नेतृत्व में भरोसा जताने में लगे हैं। महाराष्ट्र कांग्रेस की गुरुवार को बुलाई गई बैठक में भी इसी तरह का प्रस्ताव पारित किए जाने की उम्मीद है।

इनका भी समर्थन

कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ दिल्ली के पार्टी नेता जगदीश टाइटलर, दक्षिण दिल्ली से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले चर्चित मुक्केबाज विजेंद्र सिंह, दिल्ली कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश लिलोठिया आदि राहुल गांधी के समर्थन में जुटे।