फिल्म एक्ट्रेस और सपा से पूर्व सांसद जया प्रदा भाजपा में शामिल हो गई है। मंगलवार को उन्होंने भूपेंद्र यादव व अनिल बलूनी की मौजूदगी में भाजपा ज्वॉइन की। माना जा रहा है कि इससे पहले सपा से रामपुर सीट से दो बार सांसद रहीं जया प्रदा इस बार भाजपा के टिकट पर वहीं से चुनाव लड़ सकती हैं। सपा ने इस बार यहां से आजम खान को टिकट दिया है। जया प्रदा मैदान में उतरती है तो रोचक मुकाबला होगा। आजम खान और जया प्रदा की तनातनी जगजाहिर है।

ऐसे हुई दोनों की दुश्मनी

साल 2004 में जब पहली बार जयाप्रदा रामपुर से सपा के टिकट से विजयी हुई थीं, तब आजम इस सीट पर पत्नी के लिए टिकट चाहते थे। लेकिन तब अमर सिंह की कोशिशों के आगे आजम की एक नहीं चली और टिकट जयाप्रदा को मिल गया। तब से जया और आजम के बीच तनातनी शुरू हो गई।

दोनों ने मौके नहीं छोड़े

- जयाप्रदा ने एक बार खुलासा किया था कि सपा नेता और रामपुर से विधायक आजम खान ने उनके ऊपर तेजाब हमला कराने की कोशिश की थी। उन्होंने दावा किया था, 'जिस परिस्थिति में मैं एक महिला के तौर पर आजम खान के साथ चुनाव लड़ रही थी, उस समय मुझ पर तेजाब हमला और मेरी जान को खतरा था...जब कभी मैं घर से बाहर जाती मैं अपनी मां को यह भी नहीं बता सकती थी कि मैं जिंदा लौटूंगी या नहीं।'

- बताया जाता है कि जया को परेशान करने के लिए आजम खान ने रामपुर के होटलवालों को भी धमकाया था। जया जब भी अपने संसदीय क्षेत्र में आती तो कोई होटल उन्हें ठहरने के लिए किराए पर देने के लिए राजी नहीं होता था।

- एक बार जया प्रदा ने आजम खान की तुलना 'पद्मावत' फिल्म के किरदार खिलजी से की थी। उन्होंने कहा था कि 'पद्मावत' फिल्म के अलाउद्दीन खिलजी को देखकर उन्हें आजम खान याद आ गए थे। जब वह चुनाव लड़ रही थीं तब आजम खान ने उन्हें भी बहुत प्रताड़ित किया था। इस बात पर आजम खान ने कुछ इस तरह जवाब दिया था, 'मैं इन दिनों शिक्षा के क्षेत्र में व्यस्त हूं। मेरे पास इस तरह के लोगों की बातों का जवाब देने का वक्त नहीं है। मेरा फोकस छात्रों की पढ़ाई में है। मैं नाचने-गाने वालों के मुंह नहीं लगूंगा। यदि मैं ऐसा करूंगा तो फिर सियासत नहीं कर पाऊंगा।'