South States Lok Sabha Election Results 2019 Live Updates : दक्षिण के राज्यों में लोकसभा चुनाव के नतीजों की स्थिति रुझान के बाद अब कुछ साफ होने लगी है। अब तक सामने आए रुझानों के मुताबिक तमिलनाडु में DMK जीत हासिल करती नजर आ रही है। वहीं केरल में यूडीएफ-कांग्रेस गठबंधन को जीत मिलती दिखाई दे रही है। कर्नाटक में भाजपा ने बढ़त बनाई है, तो वहीं तेलंगाना में TRS 10 सीटों पर आगे है।

तमिलनाडु की 39 लोकसभा सीटों में से इस बार 38 सीटों पर चुनाव हुए हैं। DMK फिलहाल एक सीट जीत चुकी है वहीं 22 सीटों पर आगे चल रही है। कांग्रेस 8 सीटों पर आगे है। सीपीआई और सीपीआई (एम) 2-2 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। AIADMK, IUML और VCK 1-1 सीट पर आगे चल रहे हैं। तमिलनाडु की एक सीट पर चुनाव आयोग ने चुनाव रद्द कर दिया था।

आंध्रप्रदेश में भी YSRC जीत हासिल करती दिखाई दे रही है। राज्य की 25 सीटों मे से 24 पर YSRC पार्टी बढ़त बनाए हुए है।

कर्नाटक में एक बार फिर भाजपा अपना परचम लहराते नजर आ रही है। यहां 28 लोकसभा सीटों में से 12 के परिणाम सामने आ चुके हैं। इनमें 10 सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की है। एक-एक सीट पर कांग्रेस और जेडीएस को जीत मिली है। बाकी बची 16 सीटों में से 15 सीटों पर भाजपा बढ़त बनाए हुए है। एक सीट पर अन्य आगे है।

तेलंगाना की 17 सीटों पर अब तक मिले रुझान के मुताबिक तेलंगाना राष्ट्रीय समिति (TRS) फिलहाल 9 सीटों पर आगे चल रही है। पिछले चुनाव में TRS ने 11 सीटें जीती थीं। बीजेपी 4 सीटों पर बढ़त बनाए है, वहीं कांग्रेस 3 सीट और एआईएमआईएम 1 सीट पर आगे चल रही है।

उड़ीसा में विधानसभा चुनाव के साथ ही लोकसभा चुनाव में भी बीजू जनता दल बाजी मारती दिखाई दे रही है। प्रदेश की कुल 21 लोकसभा सीटों में से 14 सीटों पर बीजू जनता दल और 7 सीटों पर भाजपा ने निर्णायक बढ़त ली है। हालांकि 2014 में हुए लोकसभा चुनाव के मुकाबले बीजेडी इस बार घाटे में रही है। पिछले चुनाव में बीजू जनता दल को 21 में से 20 सीटों पर जीत मिली थी।

देश के विभिन्न राज्यों में जारी मोदी लहर के बीच अरुणाचल प्रदेश में भी भाजपा ने निर्णायक बढ़त ली है। 60 सीटों में से 59 सीटों पर अब तक आए रुझानों के मुताबिक भाजपा 40 सीटों पर बढ़त बना चुकी है। कांग्रेस 10 सीटों पर और अन्य उम्मीदवार 9 सीटों पर आगे हैं।

सिक्किम की 32 लोकसभा सीटों पर SKM-BJP का गठबंधन 14 सीटों पर आगे है, वहीं 18 सीटों पर एसडीएफ ने बढ़त बना रखी है।

इस बार लोकसभा चुनाव के बाद किसकी सरकार दिल्ली पर काबिज होगी इसमें दक्षिण के राज्य भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। लोकसभा चुनाव 2019 में केरल, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु की 129 सीटों का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा।

तमिलनाडु में डीएमके क्लीन स्वीप करने की दिशा में आगे बढ़ रही है, तो केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूडीएफ जबरदस्त विजय हासिल कर सकती है। आंध्र प्रदेश में वाईएसआरसी राज्य की 25 सीटों में से 24 सीटों में आगे चल रही है। कर्नाटक में भाजपा आगे चल रही है, जबकि तेलंगाना की 17 में से 10 सीटों पर टीआरएस आगे चल रही है।

नतीजे आने के पहले ही त्रिशंकु सरकार की संभावना को देखते हुए पहली बार दक्षिण के राज्य से ही थर्ड फ्रंट बनाने की सुगबुगाहट शुरू हुई थी। ऐसे में इन राज्यों में किस पार्टी को कितनी सीटें मिलेंगी ये काफी अहम हो जाता है। तमिलनाडु (39 सीट), केरल (20 सीट), कर्नाटक (28 सीट), आंध्रप्रदेश (25 सीट), तेलंगाना (17 सीट) राज्यों की कुल 129 सीटों से देश की अगली सरकार का भविष्य तय होगा। क्योंकि यह लोक सभा की 543 सदस्यों की संख्या का एक चौथाई है।

फिलहाल तमिलनाडु में एआईएडीएमके, केरल में सीपीएम, कर्नाटक में जेडीएस, आंध्रप्रदेश में तेलुगूदेशम पार्टी और तेलंगाना में तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) की राज्य सरकार है। तमिलनाडु में मुख्यमंत्री ई. पलानीसामी, केरल मुख्यमंत्री, पिनाराई विजयन, कर्नाटक मुख्यमंत्री, एचडी कुमार स्वामी, आंध्रप्रदेश मुख्यमंत्री, एन. चंद्रबाबू नायडू, तेलंगाना मुख्यमंत्री, के. चंद्रशेखर राव हैं।

2014 का नतीजा: 2014 की मोदी लहर में दक्षिण के इन राज्यों पर मिला जुला असर दिखा था। कर्नाटक में 28 सीटों में से भाजपा को 17 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। वहीं केरल की 20 सीटों में से कांग्रेस बड़ा दल बनकर उभरा था और उसे वहां 8 सीटें मिली थीं। तमिलनाडु की 39 सीटों में से एआईएडीएमके ने लगभग क्लीन स्वीप करते हुए 37 सीटें हासिल की थीं। आंध्रप्रदेश और तेलंगाना की कुल 42 सीटों में से टीडीपी को 16 और टीआरएस को 11 सीटें मिली थीं।