नई दिल्ली। एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई केदारनाथ यात्रा और वहां गुफा में उनके द्वारा किये गये ध्यान को लेकर लोगों के बीच चर्चा चल रही है। मीडिया चैनल्स पर कथिततौर पर इस घटना का महिमा मंडन किया गया। इसी बीच जानकारी सामने आई है कि तृणमूल कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केदारनाथ यात्रा को लेकर चुनाव आयोग को पत्र लिखा है।

पत्र में लिखा गया है कि जब लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के मतदान का चुनावी प्रचार 17 मई को ही थम गया था तो फिर पीएम नरेंद्र मोदी की केदारनाथ यात्रा का प्रसारण राष्ट्रीय समाचार चैनल और स्थानीय मीडिया में किया गया। टीएमसी ने इसे चुनावी आचार संहिता का उल्लंघन बताया है।

टीएमसी के पार्टी प्रवक्ता ने बताया कि पीएम मोदी ने केदारनाथ मंदिर को लेकर घोषणा भी की। उन्होंने, मंदिर परिसर में मीडिचा से चर्चा की। डेरेक ओब्रायन ने इसे अनैतिक और गलत करार दिया। उन्होंने कहा कि मोदी - मोदी की गूंज ने लोगों पर प्रभाव डाला और इससे मतदाओं के मन व मत को प्रभावित किया गया।

उन्होंने कहा कि मतदाताओं पर कमल के फूल का बटन दबाने और लोगाों को धमकाने का हमारे द्वारा विरोध किया गया है। लोगों से कहा गया है कि कमल के फूल पर बटन दबाओ नहीं तो ठोंक देंगे। दूसरी ओर रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि केंद्रीय बलों को चुनावी आचार संहिता बने रहने तक यहां से न हटाया जाए। यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो टीएमसी नेता, वोटर्स के एक सेक्शन पर हमला कर सकते हैं।