वाराणसी। लोकसभा चुनाव में वाराणसी से प्रियंका गांधी के चुनाव लड़ने या नहीं लड़ने का सस्पेंस खत्म हो गया है। कांग्रेस ने ऐलान किया है कि अजय राय यहां से प्रत्याशी होंगे। अजय राय 2014 में भी मोदी के खिलाफ लड़े थे और तीसरे स्थान पर रहे थे। दूसरे स्थान पर अरविंद केजरीवाल रहे थे। इस बार मोदी बनाम अजय राय मुकाबला होगा। समाजवादी पार्टी ने यहां से शालिनी यादव को टिकट दिया है। वहीं कांग्रेस ने गोरखपुर सीट से मधुसूदन तिवारी को टिकट दिया है। बहरहाल, यह सवाल अभी भी बना हुआ है कि प्रियंका 2019 का चुनाव लड़ेंगी या नहीं। उनको लेकर दो सीटों का अटकलें थीं। पहली - वाराणसी और दूसरी इलाहाबाद। कांग्रेस ने इन दोनों सीटों से प्रत्याशी का ऐलान कर दिया है।

वाराणसी में सातवें चरण में 19 मई को वोटिंग होना है। यहां नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 29 अप्रैल है।

भाजपा से शुरू की थी राजनीति की पारी

यह भी कम रोचक नहीं है कि आज भाजपा के सबसे बड़े नेता को चुनौती देने वाले अजय राय ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत भाजपा से की थी। वे छात्र संघ के सदस्य थे। इसके बाद 1996 में भाजपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ा और जीते। 2009 में उन्होंने भाजपा छोड़ दी। तब वे सपा के टिकट पर राज्‍यसभा चुनाव लड़े थे। बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए।