नई दिल्ली। पीएम मोदी की प्रेस कांफ्रेंस पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कटाक्ष करते हुए कहा कि बहुत अच्छा है। चुनाव नतीजे के चार-पांच दिन पहले पीएम अपना पहला प्रेस कांफ्रेंस कर रहे। मगर यह ऐसी प्रेस कांफ्रेंस है जिसमें हमने दो-तीन पत्रकारों को अपने कुछ सवाल पूछने के लिए भेजा मगर दरवाजे बंद कर दिए गए हैं। इसीलिए वे खुद पीएम से लाइव सवाल पूछते हैं कि राफेल पर उनकी रेस कोर्स रोड में आकर बहस करने की चुनौती को क्यों स्वीकार नहीं किया और डर गए?

पीएम मोदी के मुकाबले अपने आत्मविश्वास को ज्यादा दिखाने के लिए राहुल ने प्रेस कांफ्रेंस में अपनी बात कहने की बजाय पत्रकारों के सवालों का सामना करने को तवज्जो दी। इस दौरान राजनीतिक सवालों का जवाब देते हुए कई मौकों पर उन्होंने पीएम मोदी के टीवी चैनलों के इंटरव्यू को लेकर जमकर निशाना साधा। राहुल ने तंज कसते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी जी बताते हैं कि मैं आम ऐसे खाता हूं, अपना कुर्ता काट दिया और ऐसे कपड़े पहनता हूं। मगर प्रेस वालों आपसे भी एक शिकायत है, आप मेरे से कठिन प्रश्न पूछते हो पर पीएम से नहीं। इसीलिए थोड़ी निष्पक्षता आप भी तो कर लीजिए।

कांग्रेस अध्यक्ष ने एक इंटरव्यू में पीएम के बालाकोट में बादलों की वजह से हवाई जहाज के रडार में नहीं आने की टिप्पणी पर भी न कटाक्ष किया बल्कि प्रेस कांफ्रेंस के दौरान तीन बार जोर-जोर से मेज पर ताल ठोकते हुए इसका मजाक भी उड़ाया। इसी तरह सोनिया गांधी की चुनाव के बाद भूमिका से जुड़े सवाल का जवाब देते हुए भी राहुल ने भाजपा पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह जैसे नेताओं के अनुभव का हम पूरा फायदा उठाएंगे न कि नरेंद्र मोदी की तरह अनुभव को धक्का मार कर भगाएंगे। प्रेस काफ्रेंस के दौरान मीडिया का सामना करने के अपने आत्मविश्वास पर राहुल ने कहा कि इसमें पत्रकारों ने उनकी गुरू की भूमिका निभाई है।

पत्रकारों के सवालों का सवालों का सामना करने की वजह से ही यह आत्मविश्वास उन्हें मिला है। इसके बाद पीएम के सवालों का जवाब नहीं देने की खबर आयी तो राहुल ने ट्वीट में तंज कसते हुए कहा कि 'बधाई हो मोदीजी। शानदार प्रेस कांफ्रेंस। सामने आना ही आधी जंग है। अगली बार श्री शाह आपको कुछ सवालों के जवाब देने का मौका देंगे। बहुत अच्छा।'