एक्टर अली फज़ल, बड़े परदे पर अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए मेहनत में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं। अपने पिछले प्रोजेक्ट में उन्होंने एक गैंगस्टर की भूमिका निभाई थी और इस चरित्र को साकार करने के लिए खुद में शारीरिक बदलाव किए थे। हाल ही में एक नए प्रोजेक्ट के लिए अली को एक दिलचस्प अनुभव मिला। अपने व्यक्तिगत शौक को इसमें शामिल करते हुए उन्होंने सेट पर जाने से काफी पहले ही अपने चरित्र को जिया।
अली को जब भी काम से फुर्सत होती है तो वह अपने पसंदीदा टीवी शो देखना पसंद करते हैं। इस बार अली बेहद मशहूर सीरीज़ 'गेम ऑफ थ्रोन्स' देखने के लिए खूब उत्साहित थे। असल में अली फजल ने अब तक इसका एक भी एपिसोड नहीं देखा था। पर एक प्रशंसक होने के नाते और जीओटी के कलाकारों से अपनी दोस्ती के कारण अली ने आखिरकार इस शो के नवीनतम 8वें सीजन के सभी एपिसोड देखने का फैसला किया। दिलचस्प बात यह है कि ये वही वक़्त था जब उन्हें अपने अगले प्रोजेक्ट 'हाउस अरेस्ट' की शूटिंग शुरू करनी थी।
यह फिल्म समित बसु और शशांक घोष द्वारा निर्देशित एक सिचुएशनल कॉमेडी है और अली ने इसमें एक ऐसे इंसान की भूमिका निभाई है जो किसी वजह से अपने ही घर में कैद हो गया है। इस भूमिका के लिए अली ने, बाहरी दुनिया से जुड़े बगैर और किसी से भी बातचीत किए बिना अपने घर में पूरे दस दिन बिताए। इस दौरान अपने पसंदीदा टीवी शो को बिना अवरोध उन्होंने देखा।
संयोग से हुए इस प्रयोग ने उन्हें उस चरित्र और इस प्रकार के फोबिया से जुड़ी बदनामी को समझने में मदद मिली। ऐसा करके उन्हें अकेले रहने वाले लोगों की मानसिकता का एहसास हुआ। पूरे दस दिनों तक घर में बंद रहने के अनुभव से उन्हें 'हाउस अरेस्ट' के लिए अपने किरदार को समझने में काफी मदद मिली।