आमिर खान के 53वें बर्थडे पर आपको बताते हैं उनसे जुड़े दो किस्से। एक में उनकी फिल्मी समझ की तारीफ है तो दूसरे में उनकी पहली फिल्म की यादें हैं...

जब राम गोपाल वर्मा को उलझा दिया था आमिर खान ने

बात उन दिनों की है जब आमिर खान काम कर रहे थे राम गोपाल वर्मा की 'रंगीला' में। रामू अपनी फिल्मों के किरदार को लेकर काफी गंभीर रहते हैं। 'रंगीला' के हर किरदार को भी रामू ने दिल से गढ़ा था। जब टपोरी किरदार के लिए आमिर को स्क्रिप्ट पकड़ाई गई तो आमिर ने इसको पढ़ने में काफी वक्त लगा दिया। जब रामू का सब्र टूटने लगा तो उन्होंने आमिर को फोन किया। आमिर ने कहा वे मिलकर इस बारे में बात करते हैं। आमिर जब निर्देशक से मिलने पहुंचे तो उन्होंने बताया 'इस किरदार को पढ़कर मुझे दो रातों से नींद नहीं आई है।' रामू ने जब नींद न आने का कारण पूछा तो एक्टर ने कहा 'मेरा किरदार 'मुन्ना' बिंदास है, मुंहफट है, किसी को कहीं भी कुछ भी बोल देता है... यह उसके स्वभाव में है। बात ठीक है। लेकिन मुझे यह समझ नहीं आ रहा है कि अगर वो इतना ही खुल्लम-खुल्ला बोलने वाला है तो हीरोइन को प्रपोज करने में उसे इतनी दिक्कत क्यों हो रही है... वो तो सीधे जाकर उसे आई लव यू बोल सकता है?' यह जवाब सुनकर रामू के चेहरे पर परेशानी बढ़ गई थी। उन्हें एक्टर की बात बिल्कुल ठीक लगी रही थी लेकिन वो किरदार में कोई बदलाव नहीं करना चाहते थे क्योंकि इससे कैरेक्टर की खूबसूरती खत्म हो रही थी। रामू ने बड़ी मुश्किल से आमिर को यह समझाया कि ये इतनी बारिक बात है कि देखने वाले इसे मिस कर जाएंगे। हुआ भी यही, लोगों ने इस फिल्म को हिट बनाया। फर्क सिर्फ यह पड़ा कि रामू आज तक आमिर की फिल्मी समझ को लोहा मानते हैं।

अलका यागनिक ने निकलवाया था आमिर को कमरे से

दूसरा किस्सा आमिर की पहली फिल्म से जुड़ा है। उस दिन 'कयामत से कयामत तक' के गाने 'गजब का है दिन' की रिकॉर्डिंग हो रही थी। इस किस्से को अलका यागनिक ने कुछ एेसे कहा है 'इस गाने को रिकॉर्ड करने के दौरान मेरा ध्यान एक हैंडसम लड़के पर गया, जो कोने में बैठकर यही गाना गुनगुना रहा था। जब रिकॉर्डिंग शुरू हो रही थी तो मैं बहुत नर्वस हो गई थी, क्योंकि आमिर लगातार मुझे देख रहे थे। इस वजह से मैं डिस्टर्ब हो रही थी। तब मैंने आमिर को बाहर जाने के लिए कह दिया था। उस वक्त तक मुझे पता नहीं था कि वही फिल्म के हीरो हैं।' अलका ने कहा, 'रिकॉर्डिंग के बाद मुझे मंसूर खान ने सभी से मिलवाया, तो वह हैंडसम लड़का भी खड़ा था। उस वक्त मैं काफी बुरा महसूस कर रही थीं।' अलका ने बताया, 'आमिर आज भी जब मुझसे मिलते हैं तो मुझे इस बात को लेकर खूब चिढ़ाते हैं। वो कहते हैं कि एक दिन अलका जी ने मुझे कमरे से बाहर कर दिया था।'