'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में डॉ. हाथी का किरदार निभाने वाले एक्टर कवि कुमार आजाद का दिल का दौरा पड़ने से 9 जुलाई को निधन हो गया था। भले ही डॉ. हाथी अपने वजन के कारण पहचाने जाते हो लेकिन इस वजन के कारण वे परेशान भी थे। आठ साल पहले, डॉ. हाथी अपने शो के सेट पर बेहोश हो गए थे और इस घटना के बाद मौत के करीब पहुंच गए थे। खबर है कि उस समय उनका अस्पताल में जो इलाज हुआ और बेरियाट्रिक सर्जरी की गई, उसका खर्च सलमान खान ने उठाया था। इस सर्जरी के बाद उनका वजन 140 किलो तक कम हो गया था। पहले वे 265 किलो के थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सलमान ने हॉस्पिटल रूम और ऑपरेशन थिएटर के खर्च का भुगतान किया था। उन्होंने आजाद की दवाइयों का भी खर्च उठाया था। कहा जा रहा है कि जो डॉक्टर, आजाद का इलाज करते हैं, उनसे सलमान करीब हैं और जरूरतमंदों के लिए अक्सर मेडिकल बिल्स चुका देते हैं। आजाद के डॉक्टर ने खुद की फीस नहीं ली थी।

इसके बाद आजाद को दूसरी बेरियाट्रिक सर्जरी की सलाह दी गई, लेकिन वे इसके लिए राजी नहीं हुए। इससे उनका वजन 90 किलो तक कम हो सकता था। उन्हें लगता था कि अगर उनका वजन कम हो गया तो उन्हें टीवी इंडस्ट्री में काम नहीं मिलेगा। वजन के कारण ही उन्हें 'तारक मेहता' में डॉ. हाथी का किरदार मिला था।

कवि कुमार आजाद मूलरूप से बिहार के सासाराम स्थित गौरक्षणी के रहने वाले थे। बचपन से ही एक्टिंग का शौक था लेकिन जब वे युवा हुए तो उनका वजन तेजी से बढ़ने लगा, लेकिन बावजूद उन्होंने एक्टिंग के शौक को मरने नहीं दिया। वे खुद मजाकिया अंदाज में अपने इंटरव्यू में कई बार कह चुके थे, 'मैं शो में डॉक्टर बना हूं लेकिन रिअल लाइफ में हूं एक शानदार मरीज।'