अहमदाबाद। गुजरात के अमरैली जिले में एकबार फिर कोगों फिवर ने दस्तक दी है। इस बीमारी से 28 वर्षीय युवक की मौत होने से प्रशासन में हड़कंप मच गया। अमरैली जिले में पांच साल पहले अर्थात 2013 में कोगों फिवर के कारण 9 लोगों की मौत हुई थी। एक बार फिर जिले में कोगों फिवर से युवक की मौत होने से लोगों में दहशत का माहौल है।

जानकारी के मुताबिक बाबरा तहसील के किडी गांव निवासी विशाल झापड़ीया (28) को भुखार आने के बाद 29 अगस्त के दिन भावनगर की सर-टी अस्पताल में भर्ती किया गया था। जहां इलाज के दौरान 1 सितंबर के दिन उसकी मौत हो गई थी। युवक की मौत कोगों फिवर से होनें की शंका आधार पर डाक्टरों ने आवश्यक नमूने लेकर उसे जांच के लिए पूणे की लेबोरेटरी में भेजा था।

पुणे की लेबोरेटरी में से गुरुवार को इसकी रिपोर्ट आई है जिसमें खुलासा हुआ है कि युवक को कोगों फिवर था।। उसकी मौत कोगों फिवर से हुई थी। कोगों फिवर बीमारी से युवक की मौत होने की खबर फैलते ही अमरैली जिले के लोगों में दहशत फैल गई है। उधर प्रशासन ने भी सावधानी बरतते हुए घर-घर दवाइयों का छिड़काव शुरू कर दिया। प्रशासन ने किड़ी गांव के लोगों के खून के नमूने भी लिये थे।

अहमदाबाद में स्वाइन फ्लू से एक मौत , 4 अन्य केस

अहमदाबाद में स्वाइन फ्लू के मामले बढ़ रहे है। महानगर पालिका संचालित वीएस अस्पताल में स्वाइन फ्लू की बीमारी से बुधवार रात को एक युवक की मौत हो गई है। जबकि पिछले चार नये मामले दर्ज हुए है।

अहमदाबाद सिविल अस्पताल के सुप्रिटेन्डेट एम.एम. प्रभाकर ने बताया कि शहर में स्वाइन के मामले बढ़ रहे है। पिछले चार दिन में चार लोगों के स्वाइन की रिपोर्ट पोजिटीव आयी है। इनका यहां इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्वाइन फ्लू का वायरस नहीं फैले इसलिए मरीजों के लिए अलग-अलग से आईसीयू वोर्ड बनाया गया है। यहां विशिष्ठ डाक्टरों की निगरानी के तहत मरीजों का इलाज किया जा रहा है।