अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा में बुधवार सुबह प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस और भाजपा के विधायकों के बीच हाथापाई हो गई। मामला इतना बढ़ गया कि कांग्रेस विधायक ने सदन का माइक तोड़ डाला। बुधवार सुबह विधानसभा के बजट सत्र के दौरान जब प्रश्न काल चल

रहा था तब सवाल पूछने को लेकर कांग्रेस और भाजपा विधायक आपस में भीड़ गए। दोनों दलों के विधायक ने सदन में खड़े होकर एक दूसरे को जमकर गालियां दी व लात-घुंसे चलाए। घटना के बाद सदन की कार्रवाई 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई। विधानसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस एक विधायक को पूरे सत्र के दौरान सस्पेन्ड कर दिया है।

इससे पहले विधानसभा में कांग्रेस विधायक विक्रम माडम और अमरीश डेर ने शून्यकाल में चर्चा की मांग की, जिसे विधानसभा के अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी यह कहकर ठुकरा दिया कि शून्य काल में चर्चा कराने का कोई प्रावधान ही नहीं है। इस पर सदन में गरमा-गरमी का माहौल छा गया।

विपक्ष के विधायक तैश में आ गए। कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा के विधायक जगदीश पंचाल ने कांग्रेस के विधायकों को गालियां दी। इससे गुस्साए सावरकुंडला कांग्रेस के विधायक प्रताप दुधात ने माइक तोड़कर उन पर हमला किया। कांग्रेस विधायक की इस हरकत से मामला और बिगड़ गया और दोनों दलों के विधायक अपस में भिड़ गए।

कांग्रेस का आरोप है कि सदन के बाहर भाजपा के कुछ विधायकों ने मिलकर कांग्रेस के विधायक अमरीश डेर को पीटा। कांग्रेस के विधायकों ने इस मामले में पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई है। राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने इस घटना की आलोचना करते हुए पत्रकारों से कहा कि विधानसभा में इस प्रकार की शर्मनाक घटना देश के किसी भी राज्य में नही हुई है।

कांग्रेस और भाजपा विधायकों की अपील के बाद भी तीन विधायकों ने पूरे सदन में हंगामा शुरु कर दिया था। इतना ही नहीं कांग्रेस के विधायक प्रताप दुधात ने विधानसभा की गरिमा पर लालछन लगाया है। इसके मद्देनजर अध्यक्ष ने प्रताप दुधात को पूरे सत्र भर के लिए निलंबित कर दिया वहीं विक्रम माडम और अमरिश डेर को एक दिन के लिए निलंबित किया।

नितिन पटेल अध्यक्ष से अनुरोध किया है कि वह विधानसभा की रिकार्डिंग और सीसीटीवी मीडिया के सामने लाये । जिससे देश की जनता गुजरात के विधानसभा कांग्रेस के विधायकों द्वारा किये गये इस दुष्कृत्य को देख सके।