राजकोट। गुजरात में पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार गुरुवार को खत्म हो जाएगा और इसके ठीक पहले कांग्रेस पीएम मोदी पर फिर हमलावर हुई है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने राजकोट में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए आरोप लगाए कि यूपीए काल में जिस पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे उससे सख्ती से निपटा गया लेकिन भाजपा के मामले में यह नहीं कहा जा सकता। भाजपा सरकार ने अपने शासन में भ्रष्टाचार पर कोई कार्रवाई नहीं की।

डॉ. मनमोहन सिंह ने एक बार फिर नोटबंदी व जीएसटी के जरिए केंद्र सरकार पर हमला बोला। उन्‍होंने कहा, सरकार ने जीएसटी को गलत ढंग से लागू किया और नोटबंदी के बाद लोगों की नौकरियां गई। इसके अलावा उन्‍होंने सरकार की विदेश नीति पर सवाल उठाते हुए कहा, हमारी राष्ट्रींय सुरक्षा इस सरकार की असुरक्षित विदेशी नीतियों से क्षतिग्रस्त हुई है। मोदी सरकार द्वारा उठाए गए कदम देश के हित में नहीं।

मनमोहन सिंह ने आगे बताया, मोदीजी ने कहा कि उन्‍होंने मेरे साथ नर्मदा मुद्दे पर चर्चा की थी लेकिन मुझे इस बारे में याद नहीं कि उनसे बात भी हुई थी जबकि वे जब भी मुझसे मिलना चाहते थे मैंने कभी इंकार नहीं किया है। उनसे मिलने को मैं हमेशा तैयार रहता था क्‍योंकि प्रधानमंत्री होने के नाते सभी मुख्‍यमंत्रियों से मिलना मेरी जिम्‍मेवारी थी।

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जीएसटी से पहले कारोबारियों से चर्चा नहीं कि गई। मोदीजी ने कारोबारियों से धोखा किया और गुजरातियों को भी धोखा दिया।‘ इसके अलावा उन्‍होंने नोटबंदी को मुसीबत लाने वाला फैसला बताते हुए कहा, नोटबंदी के बाद भ्रष्‍टाचार पर लगाम नहीं लगा। इससे लाखों नौकरियां चली गयीं, लोगों को नए रोजगार नहीं मिल रहे हैं। इससे गरीबों को भी काफी नुकसान हुआ।

इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री सिंह ने कहा था कि मौजूदा दर से यूपीए सरकार के दस साल के कार्यकाल की औसत रफ्तार हासिल करना नरेंद्र मोदी सरकार के लिए संभव नहीं होगा।