अहमदाबाद। गुजरात सरकार व उत्तर भारतीय संगठनों के प्रयास के बाद राज्य से गैरगुजरातियों का पलायन थम सा गया है लेकिन कांग्रेस भाजपा के बीच जुबानी जंग फिर तेज हो गई है।

हिंसा व डर का माहौल पैदा करने वाली ठाकोर सेना के प्रमुख अल्पेश ठाकोर ने एक दिन का प्रतीक उपवास किया उस पर भाजपा ने चुटकी लेते हुए कहा कि हिंसा फैलाकर अब शांति की बातें कर रहे हैं।

उत्तर गुजरात से कांग्रेस विधायक व ठाकोर सेना के प्रमुख अल्पेश ठाकोर ने एक बार फिर गुजरात में गैरगुजरातियों पर हुए हमले व उन्हें पलायन के लिए मजबूर करने की घटनाओं से खुद को अलग करते हुए राज्य सरकार पर कानून व्यवस्था में विफल रहने का आरोप जडा। अल्पेश ने एक दिन का प्रतीक उपवास कर उत्तर भारतीय बालिका के हाथ से पानी पीकर उपवास तोडा।

उधर भाजपा प्रवक्ता भरतभाई पंड्या ने कहा कि गुजरात को बदनाम करने वाली कांग्रेस अब बेनकाब हो गई है। मूल निवासी प्रमाण पत्र के मुद्दे पर कांग्रेस ने गुजरात के युवाओं विरोधी मानसिकता को उजागर कर दिया है।

चारों ओर हिंसा फैलाकर अब कांग्रेस विधायक उपवास का नाटक कर रहे हैं। राज्य में जातिवाद व प्रांतवाद का जहर फैलाकर परप्रांत की कन्या के हाथ से पानी पीकर कौनसा नाटक कर रहे हैं। उत्तर भारतीयों के खिलाफ हिंसा में कई कांग्रेस नेता व कार्यकर्ता पकड में आए हैं।

भरत पंड्रया ने कांग्रेस पर महात्मा गांधी के अपमान का भी आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस को न्यायतंत्र्र लोकतंत्र में विश्वास नहीं है वह गुजरात की शांति व एकता में अवरोधक है।

जातिवाद के नाम पर आनंदीबेन पटेल को सीएम पद से हटाया गया अब प्रांतवाद के नाम पर हिंसा फैलाकर मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के खिलाफ षड्यंत्र किया जा रहा है ताकि उन्हें हटाया जा सके। राज्य में सत्ता परिवर्तन का अंदेशा है।

परेश धनाणी, नेता विपक्ष गुजरात विधानसभा