अहमदाबाद। पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने गुरुवार को यह दावा कर विवाद खड़ा कर दिया कि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने इस्तीफा दे दिया है और नया सीएम अगले दस दिन में पाटीदार या राजपूत समुदाय में से बनेगा। लेकिन रुपानी ने हार्दिक के दावे को खारिज करते हुए इसे एकदम झूठ और कोरी अफवाह करार दिया।

रुपानी ने कहा कि उन्होंने कोई इस्तीफा नहीं दिया है और देने वाले भी नहीं हैं। वह पांच साल का कार्यकाल पूरा करेंगे। उनके अनुसार, विरोधी राज्य की भाजपा सरकार को बदनाम करने के लिए लगातार उनके इस्तीफे की अफवाह फैला रहे हैं। इससे सरकार कोई फर्क नहीं पड़ता है।

हार्दिक पटेल ने राजकोट में दावा किया कि बुधवार को कैबिनेट की बैठक में मुख्यमंत्री रुपानी अपना इस्तीफा सौंप चुके हैं क्योंकि पार्टी ने उन्हें ऐसा करने के लिए कहा। वह यह बात पूरे विश्वास के साथ कह रहे हैं। रुपानी से इसलिए इस्तीफा मांगा गया क्योंकि वह प्रशासन संभालने में नाकाम रहे हैं।

पटेल ने कहा कि आगामी दस दिन में नए मुख्यमंत्री की नियुक्ति हो जाएगी। यह कोई पाटीदार या राजपूत होगा। इस पर गांधीनगर में पत्रकारों से चर्चा करते हुए रुपानी ने कहा कि मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की बात एकदम गलत है। इस तरह की अफवाह कांग्रेस व कुछ अन्य लोग फैलाते रहते हैं।

हार्दिक को कांग्रेस का एजेंट बताते हुए उन्होंने कहा कि कुछ लोग राज्य का विकास अवरुद्ध करने के लिए मीडिया में इस तरह की गलतबयानी कर रहे हैं। रुपानी ने कहा कि हार्दिक को इस्तीफा देने की प्रक्रिया पता नहीं है। यह राजभवन में राज्यपाल को दिया जाता है कैबिनेट बैठक में नहीं।

उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने भी मेहसाणा में कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री रुपानी ही हैं और वह ही रहेंगे। भाजपा के दुश्मन विवाद खड़ा करने के लिए ऐसी आधारहीन अफवाह फैला रहे हैं।