सीहोर। देवास-भोपाल कॉरिडोर प्रालि के सीएसआर मैनेजर उमा शंकर पांडेय व टोल मैनेजर फिरोज खान द्वारा कंपनी परियोजना संचालक आशीष थेटे के निर्देश व पुलिस प्रसाशन के सहयोग से स्वक्छता जागरूकता कार्यक्रम आयोजित कि या गया। देवास भोपाल कोरीडोर मैनेजर व कर्मचारियों ने सड़क के दोनों तरफ सफाई करते हुए हाथ जोड़कर दुकानदारों से कू डा पेटी रखने तथा ब्यवसाय के साथ उनको उनके सामाजिक जबाबदारियो के निर्वहन के लिए अपील कि या। दुकानदारों व आम जन को सम्बोधित करते हुए उमा शंकर पांडेय व फिरोज खान ने कहा कि हमारा थोडा सा मेहनत एवं थोड़ी सी जागरूकता व स्वक्छता समाज को विमारियों से बचाव के साथ अच्छा स्वास्थ्य दे सकता है। कार्यक्रम के दौरान स्वछता के उपाय सुझाए गए। कम्पनी द्वारा इस तरह की पहल सामाजिक बदलाव व समाज के ा बदलाव के लिए प्रेरणा देती है। इस मौके पर मेंटेनेंस इन्चार्ज संजीव ठाकु र, एफबीएच मैनेजर सोमबीर सिंह कोरीडोर मैनेजर सोहन सिंह सरदार, अंकु श शर्मा, सुनील, विनोद चिंतामनि माखन जी, धर्मेंद्र, ग्यान सिंह मेवाडा, हरी सिंह, सुनील हाडा, शांतिलाल शर्मा, ओमप्रकाश आदि सभी सम्माननीय शामिल थे।

000000000

स्वच्छता सर्वेक्षण के अंतर्गत नपा ने चलाई फॉगिंग मशीन

फोटो 01 आष्टा। फागिंग मशीन से धुआं करते हुए नपा कर्मचारी।

आष्टा। कलेक्टर तरुण कु मार पिथेडे के आदेशानुसार नगरपालिका नागरिकों की सुविधाओं के लिए विभिन्न गतिविधियां संचालित करती हैं। समय-समय पर सफाई अभियान चलाकर पूरे नगर को साफ एवं स्वच्छ करती हैं। नागरिकों को जागरूक करने के लिए विभिन्न अवसरों पर जागरूकता रैली भी पूरे नगर में निकालती हैं। स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के अंतर्गत मुख्य नगरपालिका अधिकारी के एल सुमन के निर्देशन में वार्ड क्रमांक 15 एवं 16 में फॉगिंग मशीन चलाकर वार्ड में मौजूद मच्छरों व कीड़ों से नागरिकों को छुटकारा दिलाया गया। मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री सुमन ने बताया कि वार्ड क्रमांक 15 एवं 16 नगर के वृहद वार्ड है। यह वार्ड क्षेत्रफल एवं जनसंख्या की दृष्टि से भी हर वार्ड से बड़े हैं। श्री सुमन ने कहा कि वार्ड क्रमांक 15 एवं 16 एवं वार्ड क्रमांक 4 तथा रेस्ट हाउस के पीछे फॉगिंग मशीन चलाने का कार्य प्रारंभ कि या हैं, जो पूरे नगर में वार्ड वार चलाई जाएगी।

0000000000

संस्कार रुपए से नहीं धर्म से ही आएंगेः मुनि निर्वेग सागर

फोटो 3 आष्टा।

आष्टा। कि सी भी मंत्र की सिद्धि प्राप्त करने के लिए एकाग्र चित्त होकर आराधना करना चाहिए, तभी सिद्धि प्राप्त हो सकती है ।चित्त की एकाग्रता इसमें बहुत जरुरी है। चाहे पाप क्षेत्र हो या पुण्य क्षेत्र एकाग्रता के बिना कार्य संभव नहीं है। चंचल मन वाले कै से सिद्धि प्राप्त करेंगे। दाता भी विवेक पान होना चाहिए, धर्म तो युवा पीढ़ी से चलेगा, संस्कार पैसे से नहीं धर्म से ही आएंगे।

उक्त बातें श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर कि ला पर संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज द्वारा रचित मूक माटी ग्रंथ का रसपान कराते हुए मुनि निर्वेग सागर महाराज ने कहीं ।मुनि श्री ने कहा कि जिस प्रकार तेज हवा, आंधी आने पर प्रलय की स्थिति निर्मित होती है तथा इससे पर्वत तक हिलने लगते हैं। प्रलय के दौरान निंद्रा भी भाग जाती है ।जहां भोजन बनाते हैं ,वहीं पर भोजन कराने से परिणामों में प्रभाव पड़ता है ।दूसरे कमरों में भोजन नहीं करना चाहिए । साधु -संतों कीआहार चर्या में मौसम का भी ध्यान श्रावक -श्राविकाओं को रखना चाहिए। उसके अनुकू ल ही मुनियों को आहार देना चाहिए । आपने आगे कहा कि जब तक आतंकवाद है ,धरती शांति की श्वास नहीं ले सकती है ।व्यक्ति अर्थात समाज सुधारक समाज में सुधार हेतु कृत संकल्पित रहता है ।

मेरा नाम इतिहास में आग लगाने वाले नहीं ,बुझाने वालों में लिखा जाएगा

मुनि श्री ने उदाहरण दिया कि एक समय जंगल में आग लगी तो एक चिड़िया अपनी चोंच में पानी भर- भर कर आग बुझाने का प्रयास कर रही थी ।वहां पर अन्य जानवरों ने देखा तो ,उस चिड़िया से कहा कि तू यह क्या कर रही है, तेरे इतने से पानी से क्या आग बुझेगी। चिड़िया ने जवाब दिया कि आग बुझे या न बुझे, में लेकि न जब भी इसका इतिहास लिखा जाएगा तो उसमे मेरा नाम आग लगाने वाले मैं नहीं, आग बुझाने वालों में लिखा जाएगा और यह करते समय अगर मेरे प्राण भी चले जाते हैं तो मुझे इसकी चिंता नहीं है। इसी प्रकार मनुष्य को भी हमेशा सकारात्मक सोच रखकर कार्य करना चाहिए। मुनि निर्वेग सागर महाराज ने आगे कहा कि प्रतिदिन देव दर्शन, पूजन से बच्चे परिचित नहीं है। मंदिर नहीं आते हैं बच्चे, उनसे पूजन, अभिषेक, गुरु भक्ति आदि कराओ। आष्टा में कम से कम 8 मंदिर होना चाहिए, लेकि न 3 मंदिर तो है 5 मंदिरों की आवश्यकता और है। मुनि श्री ने कहा कि आने वाला समय युवाओं का ही है। वहीं धर्म युवा पीढ़ी से ही चलेगा ।जिस प्रकार दुकान में ग्राहकों के लिए हम तैयारी करके अच्छी तरह से सजाते हैं, उसी प्रकार मंदिर के प्रति भी लगाव होना चाहिए, जो नजर नहीं आता है। मंदिर के प्रति जागृति भी नहीं है। दान देने वाले दाता बहुत हैं, मंदिर के लिए बहुत देंगे, हमें आने वाली पीढ़ी को चिंता हैं। संस्कार पैसे से नहीं धर्म से आएंगे, जिस प्रकार मुलजिम को पुलिस बांधती है ,लेकि न उससे ज्यादा पुलिस स्वयं भी बंधी हुई रहती है। क्योंकि अगर मुलजिम भाग जाता है तो वह पुलिस वाला तत्काल निलंबित हो जाता है। स्वलंबन जीवन को सुखी बनाने की सबसे अच्छा माध्यम आपने बताते हुए कहा कि आचार्य श्री विद्यासागर महाराज भी यही कहते हैं कि हमें दूसरों पर आश्रित नहीं रहना चाहिए। जो दूसरों पर आश्रित रहता है, वह दुख का कारण बन जाता है ।हर चीज के लिए पराधीन मत हो,के श लोच , प्रतिक्रमण एवं सामायिक साधु को स्वयं ही करना चाहिए ।यह बात आचार्य श्री हमेशा कहते हैं। प्रतिक्रमण कर्म निर्जरा का साधन बताया। भाव पूर्वक क्रिया अधिक फलदाई होती है। कमान अपने हाथ में होना चाहिए, बच्चों पर विशेष ध्यान देना चाहिए। सामने वाला शांत है तो कि तना ही क्रोधी व्यक्ति क्यो न हो ,कु छ ही देर में वह भी शांत हो जाता है।

दीपावली पर कु छ नया कि या सिर्फ बाहर की नहीं अंदर की भी सफाई आवश्यकः मुनि निर्वेग सागर

मुनि राज ने धर्म सभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस दीपावली पर कु छ नया करा, बाहर की सफाई करते हैं अंदर की सफाई भी करें। बाहर का ही नहीं, अंदर का भी अंधकार मिटाना है। गरीबों को मिठाई, औषधि, वस्त्र देकर उनकी दीपावली भी अच्छी मनवाई। एक मिट्टी का दिया घर में उजाला कर देता है। प्रेम की गंगा बहे स्नेह से भरे हम गगन के सारे सितारे और चांदनी के साथ दीपावली मनाकर कि सी का दिल नहीं दुखे यह ध्यान रखना है। मुनिश्री ने कहा कि लोगों के पास पैसा तो बढ़ता जा रहा है, लेकि न प्रेम नहीं है। आज व्यक्ति मोबाइल में व्यस्त हो गया है व्यक्ति इस प्रकार का जीवन जी रहा है मान मर्यादा खत्म हो रही है। हमारे परिवार में अच्छा माहौल देखने को नहीं मिलता। आज की सोच अपने तक ही सीमित हो गई है। एक अंधी मां ने बच्चे को पढ़ाया बढ़ाया लेकि न उसके बच्चे ने मां को जंगल में अके ला छोड़ा दिया एक व्यक्ति जो अरबों का मालिक था और बेटे ने उसे घर से निकाल दिया। व्यक्ति जीवन भर पैसा कमाता है ,लेकि न संस्कार नहीं देता है। सुख के साथी सभी होते हैं, दुख में कोई नहीं होता है। आज की नई पीढ़ी दूसरों को तो अपना मान लेती है ,लेकि न अपनों से दूर होती जा रही है ।मोबाइल पर दोस्ती करने वाले अपने बनते जा रहे हैं। माता -पिता ने जन्म देकर आपके ऊपर उपकार कि या है ,लेकि न आप भूल जाते हैं। आज के व्यक्ति की सोच है कि आपने कोई बड़ा काम नहीं कि या है ,जो मुझे जन्म दिया है। माता पिता ने बच्चों को पालने के लिए संघर्ष कि या है यह वह ही जानते हैं।

00000000000000000

महा आरती के बाद लक्ष्मी मंदिर में मां को लगा छप्पन भोग, भजनों पर झूमे श्रद्धालु

फोटो 02 आष्टा।

आष्टा। स्थानीय कृषि उपज मंडी में स्थित मां दयालु लक्ष्मी मंदिर में अन्नकू ट का आयोजन अनाज तिलहन वेलफे यर सोसायटी के द्वारा कि या गया ।इस अवसर पर जहां महा आरती की गई, वहीं छप्पन भोग का प्रसाद भी मां लक्ष्मी को लगाया गया। विशेष श्रंगार भी इस अवसर पर मां लक्ष्मी जी का कि या गया था। वहीं स्थानीय कलाकारों ने मां के शानदार भजनों की प्रस्तुति दी। जिस पर श्रद्धालुगण झुमकर नृत्य भी करने लगे।नगर के मंदिरों में अन्नकू ट के बाद प्रसादी वितरित की गई। जिसमें सैकड़ो श्रद्धालुओं ने भाग लिया । मंदिरों में आरती के बाद भगवान को छप्पन भोग भी लगाया गया।

अल सुबह खुले मंदिरों के पट, विशेष श्रंगार कि या

मंदिरों में नव वर्ष के उपलक्ष्य में विशेष श्रंगार भी कि ए गए। नगर के भजन गायक संतोष झंवर, बाबूलाल टेलर, राजेश गौतम, गोविंद चौहान, राजेश राठौर, राजेंद्र जायसवाल आदि ने शानदार भजनों की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर भारतीय संस्कृति के अनुरुप दीप पर्व के दौरान अपने घरों एवं प्रतिष्ठानों के सामने बहु-बेटियों द्वारा बनाई गई रंगोली में श्रेष्ठ रंगोली बनाने वालो को अनाज तिलहन वेलफे यर सोसायटी द्वारा पुरस्कृत भी कि या गया। सोसायटी के अध्यक्ष मनीष पालीवाल ने उक्त जानकारी दी।

0000000000000

दो स्थायी वारंटी गिरफ्तार

फोटो 04 आष्टा। दो स्थायी वारंटी पुलिस गिरफ्त में

आष्टा । जिला पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल के निर्देश पर एसडीओपी वीरेंद्र मिश्र के मार्गदर्शन एवं नगर निरीक्षक कु लदीप खत्री के नेतृत्व में स्थानीय पुलिस को बडी सफलता मिली। दो स्थायी वारंटी को धर दबोचा। पुलिस सूत्रों के अनुसार वर्ष 2014 से फरार अमरसिंह पिता हनुमतसिंह गेहलोत निवासी लसूडिया सूखा एवं वर्ष 2017 से फरार स्थायी वारंटी थावरसिंह पिता लालू कटारिया निवासी मूंडला थाना जावर ऐक्सीडेन्ट के के श में गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। इस कार्यवाही में महत्वपूर्ण भूमिका पधान आरक्षक अशोक श्रीवास्तव, आरक्षक अशोक यादव, शैतानसिंह, अर्जुनसिंह की रही।

00000000000000000000

शेख रईस विधानसभा प्रभारी नियुक्त

आष्टा। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष कमलनाथ,कांग्रेस अल्पसंख्यक के राष्ट्रीय अध्यक्ष नदीम जावेद, प्रदेश अध्यक्ष मुजीब कु रेशी, प्रभारी दीपक बावरिया, पूर्व सांसद सज्जनसिंह वर्मा की सहमति से पूर्व राज्यपाल अजीज कु रेशी व शेख कु तुबउदीन की अनुशंसा पर कांग्रेस अल्पसंख्यक सीहोर जिला अध्यक्ष शेख रईस को आष्टा विधानसभा क्षेत्र 157 के प्रभारी पद पर नियुक्त कि या गया।शेख रईस को बधाई देने वालों में कै लाश परमार, खालिद पठान, हरपाल ठाकु र, गोपालसिंह इंजीनियर, भैया मियां, जाहिद गुडडू, सोभालसिंह भाटी, इदरीस मंसूरी, महेंद्र ठाकु र, भैया एमपी, सईद टेलर, आतु मौलाना, अयाज पठान, अनिल धनगर, कमल पहलवान, दिलीप शर्मा आदि ने बधाई दी।

00000000000000000000000

भावांतर योजना की राशि पाने कि सानों को करना होगा तीन माह का इंतजार

फोटो 05 आष्टा। पंजीयन कराने के लिए कि सान इस प्रकार धूप में मंडी परिसर में लगते हैं कतार में

आष्टा। दीपावली के चलते कृषि उपज मंडी में आठ दिनों की छुट्टी जारी है। अब सोमवार 12 नवंबर को मंडी खुलेगी। इतने लंबे अंतराल के बाद मंडी में भारी मात्रा में उपज की आवक होने की उम्मीद है। साथ ही अधिक आवक होने से मंडी में अव्यवस्था के कयास भी लगाए जा रहे हैं। हालांकि मंडी प्रबंधन की ओर से बताया है इस दौरान व्यापारी खरीदे गए अनाज का उठाव कर रहे हैं, जिससे मंडी में अनाज बेचने आने वाले कि सानों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। मंडी में पंजीयन कराने के लिए कि सान धूप में कतार में लगकर परेशान हो रहा है ,लेकि न इस ओर कि सी का ध्यान नहीं जा रहा है।

00000000000000

कार्तिक पूर्णिमा पर 70 साल में सबसे बड़ा दिखेगा चांद

आष्टा। इस बार की कार्तिक पूर्णिमा 14 नवंबर को पड़ रही है। इस पूर्णिमा पर निकलने वाला चांद 70 साल के इतिहास का सबसे बड़ा चांद होगा। इस दिन चंद्रमा ठीक 180 अंश पर होता है। इस दिन चंद्रमा से जो कि रणें निकलती हैं, वह काफी सकारात्मक होती है। यह कि रणें सीधे दिमाग पर असर डालती है। चूंकि चंद्रमा पृथ्वी के सबसे अधिक नजदीक है, इसलिए पृथ्वी पर सबसे ज्यादा प्रभाव चंद्रमा का ही पड़ता है। इसलिए पूर्णिमा वाले दिन हर मनुष्य को अपनी मानसिक उर्जा में वृद्धि करने के लिए चंद्र को अर्घ देकर स्तुति करनी चाहिए।

पं.मनीष पाठक ने बताया कि भविष्य पुराण के अनुसार वैशाख, माघ और कार्तिक माह की पूर्णिमा स्नान, दान के लिए श्रेष्ठ मानी गई है। इस पूर्णिमा में जातक को नदी या अपने स्नान करने वाले जल में थोड़ा सा गंगा जल मिलाकर स्नान करना चाहिए, इसके तुरंत बाद भगवान विष्णु का विधिवत पूजा अर्चना करना चाहिए। इस दिन मनुष्य को पूरे दिन उपवास रखकर एक समय भोजन करना चाहिए। अपनी सामर्थ्‌य अनुसार गाय का दूध, के ला, खजूर, नारियल, अमरुद आदि फलों का दान करना चाहिए। ब्राह्मण, बहन, बुआ आदि को कार्तिक पूर्णिमा के दिन दान करने से अक्षय पुण्य मिलता है। शाम के समय मंत्रों उच्चारण कर चंद्रमा को अर्घ देना चाहिए।

पूर्णिमा पर यह उपाय करने से प्रसन्न होती हैं माता लक्ष्मी

कार्तिक पूर्णिमा मां लक्ष्मी को अत्यन्त प्रिय है। इस दिन माता लक्ष्मी की आराधना करने से जीवन में खुशियों की कमी नहीं रहती है। पूर्णिमा की सुबह 5 बजे से 10.30 मिनट तक माता लक्ष्मी का पीपल के वृक्ष पर निवास रहता है। इस दिन जो भी जातक मीठे जल में दूध मिलाकर पीपल के पेड़ पर चढ़ाता है, उस पर मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है। कार्तिक पूर्णिमा के गरीबों को चावल दान करने से चंद्र ग्रह शुभ फल देता है। इस शिवलिंग पर कच्चा दूध, शहद व गंगाजल मिलकार चढ़ाने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। कार्तिक पूर्णिमा को घर के मुख्य द्वार पर आम के पत्तों से बनाया हुआ तोरण अवश्य बांधे। वैवाहिक व्यक्ति पूर्णिमा के दिन भूलकर भी अपनी पत्नी या अन्य कि सी से शारीरिक संबंध न बनाएं, वरना चंद्रमा के दुष्प्रभाव आपको व्यथित करेंगे।

कै से करें कार्तिक पूर्णिमा में स्नान डॉक्टर दीपेश पाठक ने कार्तिक पूर्णिमा के स्नान के संबंध में ऋषि अंगिरा ने लिखा है, इस दिन सबसे पहले हाथ-पैर धो लें, फिर आचमन करके हाथ में कु शा लेकर स्नान करें। यदि स्नान में कु श और दान करते समय हाथ में जल व जप करते समय संख्या का संकल्प नहीं कि या जाए ,तो कर्म फलों से संपूर्ण पुण्य की प्राप्ति नहीं होती है। दान देते समय जातक हाथ में जल लेकर ही दान करें। गृहस्थ व्यक्ति को तिल व ऑवला का चूर्ण लगाकर स्नान करने से असीम पुण्य मिलता है। विधवा व सन्यासियों को तुलसी के पौधे की जड़ में लगी मिट्टी को लगाकर स्नान करना चाहिए।

000000000000000000000

कृषि उपज मंडी में मवेशियों का बोलबाला व्यापारियों की उपज कर रही है चट

फोटो 06 आष्टा। इस प्रकार मवेशी मंडी परिसर में व्यापारियों की उपज को खा रही है

आष्टा। स्थानीय कृषि उपज मंडी में वैसे तो आवक और जावक दो द्वार हैं और दोनों ही द्वारों पर नाकों के नाके दार के अलावा गार्ड आदि भी तैनात हैं ।इन सब के बावजूद भी कृषि उपज मंडी में काफी संख्या में मवेशियों पहुंचकर व्यापारियों की उपज को नुकसान पहुंचा रही है। लेकि न इस और कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कृषि उपज मंडी में व्यापारियों की उपज दुकानों के सामने एवं मंडी परिसर के अंदर खुले में फै ली रहती है । इस उपज को जहां देर रात्रि में कु छ चोर भी चुरा रहे हैं ।वहीं दूसरी ओर काफी संख्या में मवेशी भी पहुंचकर उपज को खाकर व्यापारियों को नुकसान पहुंचा रही हैं । इस संबंध में मंडी सचिव कि शोर माहेश्वरी से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि मंडी परिसर में मवेशियों की रोकथाम के निर्देश भी गार्ड एवं मंडी कर्मियों को दिए हुए हैं। कै से मंडी के अंदर मवेशी पहुंच रहे है,ं इस संबंध में अधीनस्थ को निर्देशित कि या जाएगा। ताकि कि सी प्रकार का नुकसान व्यापारी या कि सान को न हो।

000000000

आज होगा भव्य पिच्छिका परिवर्तन समारोह

आष्टा। स्थानीय श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर कि ला पर चातुर्मास हेतु विराजित संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि प्रशांत सागर महाराज, मुनि निर्वेग सागर महाराज, मुनि विशद सागर महाराज व क्षुल्लक, देवानंद सागर महाराज का मंगल चतुर्मास धर्म आराधना पूर्वक हो रहा है। परंपरा अनुसार चातुर्मास के दौरान साधु- साध्वियों के हाथों में जो जीव दया का संयमोपकरण पिच्छिका रहती है, उसे बदला जाता है । पिच्छिका परिवर्तन का समारोह रविवार 11 नवंबर को आयोजित कि या गया है। श्री दिगंबर जैन समाज के अध्यक्ष सुनील जैन आदिनाथ एवं महामंत्री नरेंद्र जैन उमंग,मुनि सेवा समिति के अध्यक्ष सुनील जैन प्रगति ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि 11 नवंबर रविवार को सुबह 6.45 बजे अभिषेक, शांतिधारा एवं श्री भक्तामर जी का विधान संपन्न होगा। दोपहर 1.30 बजे पिच्छिका परिवर्तन समारोह एवं दोपहर 3.30 बजे मुनि संघ के मंगल प्रवचन कि ला मंदिर पर होंगे।

निकलेगा कलश का जुलूस

सूत्रों के अनुसार चातुर्मास हेतु विराजित कि ए गए कलशों को उन लाभार्थियों के घरों पर गाजे-बाजे के साथ जुलूस के रुप में ले जाया जाएगा और कलशों को उनके घरों पर विराजित कि ए जाएंगे यह जुलूस सुबह 9.30 बजे कि ला मंदिर से प्रारंभ होगा।

0000000

एक से छुरा तो दूसरे से शराब जब्त

आष्टा। पुलिस ने दो अलग-अलग जगहों पर दो व्यक्तियों से छुरा व अवैध शराब के क्वार्टर जब्त कि ए हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार ग्राम फू डरा निवासी देवकरण पिता गंगाराम प्रजापति से पुलिस ने 18 क्वार्टर शराब के जब्त कि ए हैं। इसी प्रकार जावर के मौगियापुरा निवासी रुप सिंह से धारदार छुरा जब्त कि या है।

000000

अमलाह के बाजार में छुरी लेकर घूमते युवक गिरफ्तार

आष्टा। पुलिस ने विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए प्रमुख ग्रामों पर जहां विशेष नजर रखे हुए हैं, वहीं दूसरी ओर संदिग्धों की धरपकड़ भी जारी है। शनिवार को अमलाह के हाट बाजार में एक युवक को छुरी लेकर घूमते हुए पुलिस ने गिरफ्तार कि या है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रधान आरक्षक महावीर ग्राम अमलाह में ड्यूटी कर रहे थे, उसी दौरान उन्हें 27 साल का अनारसिंह पिता घीसीलाल विश्वकर्मा छुरी लेकर घूमते हुए नजर आया, जिसे 25 आर्म्स एक्ट के तहत गिरफ्तार कि या गया।