इंदौर। हार्ट अटैक झेल चुके मप्र (इटारसी) के जगदीश जुनानिया ने 58 साल की उम्र में मंगोलिया (उलांबातोर) में संपन्ना विश्व पावर लिफ्टिंग चैंपियनशिप में देश के लिए कांस्य पदक जीता। मप्र (भोपाल) की ही 52 साल की सीमा वर्मा ने भी कांस्य पदक पर कब्जा जमाया और यह सफलता पाने वाली वे देश की एकमात्र महिला रहीं।

मप्र संगठन के सचिव दिनेश पालीवाल ने बताया कि जगदीश ने मास्टर्स श्रेणी में 66 किग्रा वजन वर्ग में कुल 325 किलो वजन उठाया। इस दौरान उन्होंने 112.5 किग्रा स्कॉट में, 75 किग्रा बेंच प्रेस में और 137.5 किग्रा वजन डेड लिफ्ट में उठाया। जगदीश ने बताया कि 2014 में मुझे हार्ट अटैक आया था। दो साल तक खेल से दूर रहा। दो स्टेंट डाले गए। अभी भी हर साल जांच कराने पैरंबूर जाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि मैं बिस्तर पर पड़े रहना पसंद नहीं करता था तो डॉक्टर से खेलों में हिस्सा लेने की अनुमति मांगी।

डॉक्टर ने थोड़ा-थोड़ा वजन उठाने की अनुमति दी तो 2017 से पावर लिफ्टिंग शुरू दी। इसी साल इंदौर में राज्य स्तरीय स्पर्धा में मैंने अपनी बेटी जागृति के साथ हिस्सा लिया और हम दोनों ने अपने-अपने वर्गों में स्वर्ण जीते थे। इसके बाद मैंने कई स्पर्धाओं में हिस्सा लेकर पदक जीता। यह पहली बार है कि अंतरराष्ट्रीय पदक जीता है। इसी तरह सीमा ने महिला मास्टर्स श्रेणी के 57 किग्रा वर्ग की बेंच प्रेस स्पर्धा में 67.5 किग्रा वजन उठाकर कांस्य पदक हासिल किया।