-विद्युत प्रदाय बाधित, लोग हुए परेशान

आगर-मालवा। दो दिन से मौसम में हुए परिवर्तन के कारण आगर में कई बार बिजली गुल होने के कारण लोग परेशान होते रहे। थोड़ी सी हवा चलने पर बिजली बंद हो जाती है। मेंटेनेंस के नाम पर बिजली विभाग ने गत माह क्षेत्र में 4 घंटे बिजली प्रदाय बंद कर दिया था। उसके बाद भी हालात जस के तस बने हुए है। इधर मंगलवार शाम तेज हवा चलने के कारण माधव गौशाला की 4 गाय की मौत बिजली का तार टूटने से हो गई, वहीं दो गायों की मौत मंगलवार रात और बुधवार को सुबह बस स्टैंड पर प्रतिक्षालय के पीछे बिजली के पोल में करंट उतरने से हुई।

नगर के रावणबर्डी क्षेत्र में माधव गौशाला की गायों को गर्मी के दिनों में तार फेंसिंग के सुरक्षित परिसर में रखा जाता है। मंगलवार शाम तेज हवा के साथ बारिश के दौरान इस परिसर के उपर से निकली बिजली लाइन के तार टूट गए। लाईन चालू थी, ऐसे में करंट की चपेट में 3 गाय और एक क़ेड़ी की मौत हो गई। गौरतलब है कि बिजली लाइन कई वर्षो पूर्व से डली हुई है। इसके नीचे गायों को रखने का स्थान गत 4-5 वर्षो से गौशाला ने फेसिंग कर सुरक्षित किया है। मंगलवार को जिस समय करंट से गायों की मृत्यु हुई, उस समय परिसर में करीब 700 गाय मौजूद थीं।

लाईन से दूर बनाएं परिसर

विद्युुत वितरण कंपनी के शहर उपभोक्ता केन्द्र के प्रभारी सहायक यंत्री पीयूष जैन ने बताया 11 केवी की एलटी लाइन कई वर्षों पूर्व से डली हुई है। ऐसे में गौशाला संचालकों को चाहिए कि परिसर लाइन से दूर बनाए या लाइन के नीचे के स्थान पर गायों को न रखें, क्योकि हवा-आंधी व बारिश के कारण तार टूटने या टकराकर फाल्ट होने की स्थिति प्राकृतिक कारणों से कभी भी बन सकती है। बस स्टैंड पर प्रतिक्षालय के पीछे बिजली पोल में करंट से गायों के मरने की जानकारी मिलते ही कर्मचारी पहुंचे। यहां एक निजी उपभोक्ता की सर्विस लाइन से पोल में करंट प्रवाहित होने की स्थिति मिली। उसे ठीक कर दिया गया। बार-बार बिजली आवाजाही की स्थिति तेज हवा के दौरान लाइन फाल्ट होने से सामने आती है। उसे देर रात में भी लाईनमेन व श्रमिक फाल्ट ढूंढकर थोड़ी ही देर में लाइन चालू कर देते है। बिजली की कमी नहीं है और न ही कोई कटौती की जा रही है।