अनूपपुर।

जिले में पिछले तीन दिनों से रूक-रूककर कभी मध्यम कभी तेज बारिश हो रही है। मंगलवार को दिनभर बारिश की झड़ी लगी रही। वर्षा से तापमान में गिरावट आई और फिर से ठंड ने दस्तक दे दी है। इस बारिश से गेहूं की फसल खिल उठी है तो वहीं चना की फसल पर खतरा मंडराने लगा है। इस फसल में इल्ली पड़ने की संभावना बन गई है। बारिश की वजह से चचाई सब स्टेशन में तकनीकी खराबी आ जाने से करीब 5 घंटे बिजली जिले में बंद रही।

मंगलवार को जिले में 11.3 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। अमरकंटक में भी दोपहर बाद झमाझम बारिश हुई जिससे यहां मेले में आए लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ा। मंगलवार को जिले मे 11.3 मिली बारिश हुई।

बारिश ने किया जनजीवन को प्रभावित

शनिवार से मौसम का परिवर्तन जो हुआ वह मंगलवार को भी बरकरार रहा। मावठे की इस बारिश ने जनजीवन को खासा प्रभावित किया है। सुबह आसमान में काले बादल छाए रहे। 10 बजे से शुरू हुई रिमझिम बारिश ने जोर पकड़ा वह शाम तक जारी रहा। इस दौरान लोगों को खासा परेशान होना पड़ा। मंगलवार को अधिकतर शादियां थी जिससे शादी वाले घरों में लोगों को खासी परेशानी उठानी पड़ी। जो लोग घरों से कार्यवश निकले उन्हें बारिश में भीगना पड़ा या घंटों बारिश रूकने का इंतजार करना पड़ा। समूचे जिले में दोपहर बाद बारिश की जो झड़ी लगी वह शाम तक जारी रही। जिले में मंगलवार को 11.3 मिली वर्षा दर्ज की गई। भू-अभिलेख द्वारा बताया गया अनूपपुर में 1.3, जैतहरी 2.2, कोतमा में 4.3, बिजुरी में 2 मिलीमीटर बारिश हुई है।

चना, आम पर बारिश की पड़ रही मार

इस वर्षा से अभी तक गेहूं की फसल को फायदा ही मिला है। बारिश के पानी से गेहूं की फसल लहलहा उठी है। किसानों को पानी लगाने की समस्या से कुछ राहत मिल गई है जो अभी तक सिंचाई के लिए पानी बोर का उपयोग करते आ रहे थे। खरीफ की दलहनी फसल चना जिसमें अब फूल आ चुके हैं वह तेज बारिश के कारण प्रभावित होने लगी है। मंगलवार को सुबह बादलों के छटने पर धूप भी खिल आई थी। जिससे किसानो की चिंता उन किसानो की कुछ कम हुई थी जो चना, तुअर व राहर की फसल लगाई है। परंतु दिन में हुई तेज बारिश ने चना को खासा नुकसान पहुंचाया। चना के पौधे में फल आने लगे हैं जिससे यह तेज बारिश फल को गिराने का क ाम किया है। फसल चौपट न हो जाए इस आशंका से किसान घिर गए हैं। राहर की फसल खेत में कटने के लिए खड़ी है। अधिक बारिश होने पर दाने खराब हो जाएंगे। तीन दिनों से बिगड़े हुए मौसम के चलते आम को भी नुकसान बारिश से पहुंचा है। आम के पेड़ो में इन दिनो बौर आए हुए हैं जो बारिश के बूंदों को सहन नहीं कर पा रहे। बारिश से आम के बौर झड़ने लगे हैं जिससे आम की पैदावार कम होने की पूरी संभावना बनती जा रही है।

जिला अस्पताल में भरा पानी

बारिश की वजह से कई जगह पानी भराव हो गया। जिला अस्पताल में ही पानी निकासी की व्यवस्था न होने से यहां के ट्रामा यूनिट भवन के सामने बारिश का पानी भर गया जो अस्पताल आने-जाने वालों के लिए मुसीबत बना रहा। पैदल व वाहन से यहां आए लोगो को भरे पानी की वजह से दिक्कतें आई।

घंटों ठप रही विद्युत व्यवस्था

जिले के चचाई सब स्टेशन में मंगलवार सुबह तकनीकि खराबी आ जाने से विभिन्न फीडरों को सप्लाई होने वाली बिजली प्रभावित रही। जिला मुख्यालय में भी सुबह 11 बजे से 4 बजे तक बिजली ठप रही। यही हाल राजेन्दग्र्राम, जैतहरी, कोतमा एवं बिजुरी के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रो का रहा। जहां बिजली दिन में घंटो गुल रही। सोमवार को भी अनूपपुर में सुबह से शाम तक बिजली आंख मिचौली होती रही। जिससे पेयजल सप्लाई व्यवस्था ठप रही। लोगो को इस दौरान पानी के लिए परेशान होना पड़ा वहीं सरकारी कार्यालयों में कामकाज बिजली के अभाव में घंटो न हो सका।

.................

यह बारिश फसल के लिए अभी ठीक है। चना को बारिश से नुकसान की सूचना नहीं आई है। यदि बादल छाए रहते हैं तो कीटव्याधी का प्रकोप होगा। अभी बारिश फसलो को नुकसान नहीं पहुंचा रही है

एमडी गुप्ता डीडीए अनूपपुर