अशोकनगर। नवदुनिया न्यूज अतिथि शिक्षकों द्वारा जिला मुख्यालय पर 15 फरवरी को एक बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में उपस्थित अतिथि शिक्षकों ने कहाकि यदि उनकी मांगों को नहीं माना गया तो सभी अतिथि शिक्षक उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होगे। बैठक में शिक्षकों ने निर्णय लिया कि मप्र सरकार के पक्ष में कोई भी वोट नहीं डालेगा। इसकी उन्होंने शपथ ली और आगामी आंदोलन की रणनीति तैयार की।

अतिथि शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष मनोज सोनी ने बताया कि अतिथि शिक्षकों का लगातार शोषण किया जा रहा है। इस सत्र में मप्र शासन द्वारा ऑनलाइन एवं ऑफलाइन प्रक्रिया को लागू कर दिया है जिसके तहत करीब 50 प्रतिशत अतिथि शिक्षक शाला विहीन हो गए है। जिसके कारण उनका परिवार भूखो भरने की कगार पर आ गया है। इस संबंध में कई बार शासन को अपनी समस्याओं से भी अवगत कराया गया किन्तु मप्र की सरकार द्वारा केवल झूठे आश्वासन दिए जा रहे है। अतिथि शिक्षकों की एक भी मांग पूरी नहीं की गई। इसी क्रम के चलते राज्य स्तरीय शिक्षक संघ के आव्हान पर प्रदेश के सभी अतिथि शिक्षकों ने एकमत होकर निर्णय लिया कि जो सरकार हमारे भविष्य को बर्बाद कर रही है ऐसी सरकार का हम कड़ा विरोध करेंगे और मुंगावली तथा कोलारस विधानसभा उपचुनाव में न केवल अतिथि शिक्षक अपितु उनके रिश्तेदार और परिवार इस सरकार के पक्ष में अपना मतदान नहीं करेगे।

.............................................................................................................................................

खबर नं.9

भावांतर योजना को वापिस लिये जाने और ओला प्रभावित ग्रामों का सर्वे करने की मांग

अशोकनगर। नवदुनिया न्यूज आल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन द्वारा मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर कार्यालय पहुचकर कलेक्टर को संबोधित एक ज्ञापन सौंपा गया है। इस ज्ञापन में मांग की गई है कि मप्र में जो मुख्यमंत्री भावांतर योजना लागू की गई है उस योजना को तुरंत वापिस लिया जाये और अशोकनगर जिले के जिन ग्रामों में ओलावृष्टि हुई है उन ग्रामों में तुरंत सर्वे का कार्य शुरू कर राहत प्रदान की जाये।

आल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के जिला प्रभारी मोहनसिंह यादव ने सौंपे इस ज्ञापन में कहा है कि मप्र में किसानों की हालत बद से बदतर होती जा रही है। हजारों किसानों ने पिछले वर्षों में आत्महत्याएं की है। किसानों की आत्महत्याओं के मामले में मप्र देश में तीसरे स्थान पर है। उन्होंने अपने ज्ञापन में कहा है कि प्रदेश में शुरू की गई मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना किसानों के लिए सिर्फ एक छलावा सिद्घ हुई है। योजना शुरू होने के बाद खरीफ की फसल के दाम पिछले 10 वर्षों में सबसे निचले स्तर पर आ गए है। जिससे किसानों को प्रति क्विंटल हजारों रूपये का नुकसान हुआ है। हाल ही में हुई ओलावृष्टि के कारण सिंगाड़ा, खोक्सी, डोडिया, केशोपुर आदि में किसानों की फसलें पूरी तरह बर्बाद हो गई है। ऐसी स्थिति में संगठन की मांग है कि मुख्यमंत्री भावांतर योजना को वापिस लिया जाये और ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों के खेतों में सर्वे कराया जाकर तुरंत मुआवजा प्रदान किया जाये।

.............................................................................................................................................

फोटो151- कलेक्टर कार्यालय पहुचकर ज्ञापन सौंपते केकेएमएस संगठन के कार्यकर्ता।

.............................................................................................................................................

खबर नं.10

महिला एएसआई को धमकाने वाले भाजपा नेता पर शासकीय कार्य में बाधा पहुचाने और शासकीय सेवकों को अपमानित करने का मामला दर्ज

अशोकनगर।नवदुनिया न्यूज जिले में पिछले दिनों मुख्यमंत्री के आगमन से एक दिन पहले 5 फरवरी को भाजपा के झंडे हटाने और कांग्रेस के झंडे लगाने का विवाद हुआ था उसके बाद मुंगावली थाने में पहुचकर भाजपा नेता विशाल राजौरिया ने एक महिला सब इंस्पेक्टर को धमकाया था। जिसका वीडियो वायरल होने के बाद अब मुंगावली पुलिस ने उक्त भाजपा नेता के विरूद्घ शासकीय कार्य में बाधा डालने का मामला धारा 186 के तहत तथा शासकीय सेवकों को अपमानित करने का मामला धारा 188 के तहत दर्ज किया है।

मुंगावली के टीआई कुशलसिंह भदौरिया ने बताया कि उक्त मामले में एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें भाजपा नेता विशाल राजौरिया निवासी उज्जैन महिला सब इंस्पेक्टर को थाने में जाकर धमका रहे थे। इस वीडियो के वायरल होने के बाद स्वयं मुंगावली थाने के टीआई कुशलसिंह पिता बीएस भदौरिया द्वारा फरियादी बनते हुए यह मामला कायम कराया है जिसमें उन्होंने कहा है कि आरोपी विशाल राजौरिया थाने के एचसीएम कार्यालय में पदस्थ सहायक उपनिरीक्षक श्रीमती अदियाना भगत को जोर-जोर से चिल्लाकर दबाव बना रहे थे। इस मामले को लेकर पुलिस ने धारा 186 और 188 में मामले दर्ज किए है। उन्होंने कहाकि उक्त मामले की जांच अलग से एसडीओपी मुंगावली द्वारा की जा रही है।

.............................................................................................................................................