छात्र संगठनों के हंगामे के बाद बढ़ी 300 सीट

- पीजी कॉलेज में बीए संकाय में प्रवेश से वंचित छात्रों के लिए अभाविप, एनएसयूआई और डीएसओ ने किया धरना-प्रदर्शन

- छात्र संगठनों के दबाव के बाद प्राचार्य ने 25 फीसदी सीट बढ़ाने का जारी किया आदेश

गुना। नवदुनिया प्रतिनिधि

पीजी कॉलेज में बीए संकाय में प्रवेश से वंचित छात्रों को लेकर छात्र संगठनों ने शुक्रवार को जमकर हंगामा किया। धरना-प्रदर्शन के साथ ही संगठनों ने कॉलेज प्रशासन पर सीट बढ़ाने दबाव बनाया। छात्र संगठन तब तक प्राचार्य कक्ष में डटे रहे, जब तक कि प्राचार्य ने 25 फीसदी सीट बढ़ाने का आदेश जारी नहीं कर दिया। इस तरह बीए में प्रवेश लेने वाले छात्रों के लिए 300 सीट पर एडमिशन का रास्ता भी खुल गया।

दरअसल, पीजी कॉलेज में ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया के आखिरी चरण के दौरान कॉलेज लेबल काउंसलिंग (सीएलसी) की सूची जारी हुई, लेकिन बीए संकाय में लगभग एक हजार छात्र प्रवेश से वंचित रह गए। क्योंकि, बीए में प्रवेश के लिए 1200 सीट थीं। इससे छात्रों के सामने प्रवेश का संकट खड़ा हो गया। यदि पीजी कॉलेज में प्रवेश नहीं मिला, तो उनका साल खराब हो जाएगा। इसी क्रम में शुक्रवार को छात्र संगठन अभाविप, एनएसयूआई और डीएसओ ने कॉलेज में प्राचार्य कक्ष के बाहर अलग-अलग धरना-प्रदर्शन किया। वहीं डीएसओ ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर भी छात्रों की परेशानी उठाई।

आखिर बढ़ाना पड़ी 25 फीसदी सीट

इधर, छात्र संगठनों का सीटों की मांग को लेकर दबाव बढ़ता जा रहा था। इस पर प्राचार्य द्वारा यूनिवर्सिटी से चर्चा के बाद 25 फीसदी सीट बढ़ाने का आदेश जारी कर दिया। इस तरह बीए संकाय में अब 1200 से बढ़कर सीट संख्या 1500 हो गई है। सीट बढ़ने का आदेश जारी होने के बाद छात्र संगठनों के चेहरों पर मुस्कान बिखर गई थी, जिसके साथ ही प्रदर्शन भी थम गया था। हालांकि, अभी भी आशंका बनी है कि कई छात्रों को प्रवेश मिलने में परेशानी हो सकती है। क्योंकि, जरूरत के मुताबिक सीट संख्या में इजाफा नहीं हो सका है।

छात्र संगठन बोले- हमारी जीत हुई

इधर, बीए संकाय में 25 फीसदी सीटों के इजाफा के बाद तीनों ही छात्र संगठनों ने अपनी जीत बताई। अभाविप का कहना था कि प्राचार्य कक्ष में धरना दिया गया और तब ही उठे, जब सीट बढ़ोतरी का आदेश जारी हो गया। इधर, डीएसओ ने भी सीटों में इजाफा होने को अपनी जीत बताई। एनएसयूआई का कहना था कि छात्रहित में प्रदर्शन किया, जिसका नतीजा रहा कि कॉलेज प्रशासन को सीट बढ़ाना पड़ी। इस तरह तीनों ही संगठनों ने सीट वृद्घि को अपनी जीत बताते हुए खुशी भी जताई। खैर, जीत किसी भी संगठन की हुई हो, लेकिन भला प्रवेश से वंचित छात्रों का हो गया।

वर्जन-

बीए में प्रवेश से वंचित छात्रों के भविष्य को देखते हुए पीजी कॉलेज में धरना देकर 25 फीसदी सीट बढ़ाने की मांग की गई। क्योंकि, अब भी एक हजार से अधिक छात्रों को प्रवेश नहीं मिल सका है। प्राइवेट कॉलेजों में भी प्रवेश बंद हो गए हैं, तो छात्र कहां जाएंगे। प्रवेश प्रक्रिया में कम अंक वालों को प्रवेश और ज्यादा अंक वाले छात्र वंचित कर दिए गए, इस मामले की भी जांच कराने की मांग की है। सीट बढ़ने के बाद छात्र धरने से उठ गए थे।

- कवींद्रसिंह चौहान, जिलाध्यक्ष एनएसयूआई गुना

बीए में छात्र संख्या के मान से सीट न होने से ज्यादातर छात्र प्रवेश से वंचित रह गए थे। इसको लेकर प्राचार्य कक्ष में धरना देकर सीट बढ़ाने की मांग की गई। पहले 10 फीसदी सीट बढ़ाने की बात कही जा रही थी, लेकिन संगठन 25 फीसदी सीट बढ़ाने पर अड़ा रहा। इसी दबाव के चलते प्राचार्य ने न केवल 25 प्रतिशत सीट बढ़ाईं, बल्कि आदेश भी जारी किया। इसके बाद भी छात्र प्रवेश से वंचित रहते हैं, तो संगठन सीट बढ़वाने तत्पर रहेगा।

- दीपक रघुवंशी, जिला संयोजक, अभाविप गुना

एक हजार छात्र बीए में प्रवेश से वंचित रह गए थे। इसको लेकर छात्रों ने कॉलेज प्राचार्य व कलेक्ट्रेट में घेराव किया। इसके दबाव में कॉलेज में 25 प्रतिशत सीट बढ़ाने की डिप्टी कलेक्टर शिवानी रैकवार ने घोषणा की। अब सीट बढ़ने से लगभग 300 छात्रों को प्रवेश मिल सकेगा। छात्रों को प्रवेश देने सीएलसी राउंड दोबारा शुरू किया जाए, ताकि छात्र बढ़ी हुई सीटों पर अन्यत्र कॉलेजों में भी फार्म जमा कर प्रवेश ले सकें।

- सुनील सेन, सचिव, डीएसओ कॉलेज इकाई गुना

वर्जन-

बीएससी, बीकॉम और पीजी में सभी छात्रों को प्रवेश मिल चुका है। लेकिन बीए में 1200 सीट होने और छात्र संख्या अधिक होने से कई छात्र प्रवेश से वंचित रह गए थे। छात्र संगठनों का सीट बढ़ाने के दबाव के चलते 25 फीसदी सीट बढ़ा दी गई हैं। अब इससे अधिक सीट कॉलेज प्रशासन नहीं बढ़ा पाएगा।

- बीके तिवारी, प्राचार्य, पीजी कॉलेज गुना

फोटो-

1008जीएन-04, गुना। पीजी कॉलेज प्राचार्य कक्ष में सीट बढ़ाने का आदेश जारी करने के बाद खुशी जताते छात्र संगठन अभाविप के छात्र।

1008जीएन-05, गुना। पीजी कॉलेज हॉल में सीट संख्या बढ़ाने की मांग को लेकर धरना देते एनएसयूआई के छात्र।

1008जीएन-06, गुना। पीजी कॉलेज प्राचार्य से 25 फीसदी सीट बढ़ाने की मांग करते डीएसओ के छात्र।