बालाघाट। जबलपुर लोकायुक्त पुलिस ने बुधवार को मलाजखंड थाने के उपनिरीक्षक मधुकर घोड़ेश्वर को 23 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा। लोकायुक्त टीम ने एसआई के कब्जे से रिश्वत बरामद कर उसके खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत अपराध दर्ज कर मामले को कार्रवाई में लिया हैं। इसके बाद एसपी ने एसआई को सस्पेंड कर लाइन अटैच कर दिया।

अपराध दर्ज करने के एवज में मांगी रिश्वत

उपनिरीक्षक को रिश्वत लेते पकड़ने की कार्रवाई कर रहे लोकायुक्त डीएसपी दिलीप झरवड़े ने बताया कि मलाजखंड थाना क्षेत्र के अंडूटोला निवासी राजेन्द्र यादव ने शिकायत की थी कि उसके खिलाफ एक युवती ने थाने में छेड़छाड़ और जान से मारने की धमकी देने की शिकायत की थी। इस शिकायत पर अपराध न दर्ज करने के लिए एसआई ने उससे 25 हजार की रिश्वत की मांग की थी।

23 हजार देने जगह हुई थी तय

लोकायुक्त डीएसपी ने बताया कि पीड़ित की शिकायत जांच में सही पाए जाने के बाद बुधवार को रिश्वत के 23 हजार एसआई को देने के लिए मोहगांव स्टैंट बैंक के समीप जगह तय की गई थी। जहां नियत स्थान पर पीड़ित राजेंद्र यादव ने एसआई मधुकर घोड़ेश्वर को 23 हजार रुपए 2 हजार व 5 सौ के नोट के रुप में दिए। जैसे ही एसआई ने रिश्वत के नोट अपने हाथों में लिए लोकायुक्त की टीम ने उसे पकड़ लिया।

इनका कहना है

पीड़ित की शिकायत पर मलाजखंड थाने के उपनिरीक्षक को 23 हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़ा गया है। एसआई के पास से 2 हजार व 5 सौ के नोट जब्त कर उसके खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत अपराध दर्ज किया गया है।

-दिलीप झरवड़े, डीएसपी, जबलपुर लोकायुक्त