ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जीवन में थोड़ी सी परेशानी आते ही मनुष्य भगवान को कोसने लगता है कि उसके साथ भगवान ने गलत कर दिया। जबकि भगवान कभी किसी के साथ गलत नहीं करता है। बल्कि भगवान ही परेशानी के समय में हमारा मार्गदर्शन बनकर हमारे कष्ट दूर करता है। यह बात मोतीझील स्थित न्यू यादव कॉलोनी में चल रही श्रीमद् भागवत में पं. सतीश कौशिक महाराज ने कही।

उन्होंने कहा कि भगवान किसी के साथ बुरा नहीं करते हैं और न ही भक्त को कभी परेशानी में डालते हैं। हमारे साथ जो भी अच्छा बुरा घटित होता है, वह सभी हमारे कर्मों के फल हैं। हमने जैसे भूतकाल में कर्म किए हैं उसके फल हमें वर्तमान में मिलते हैं। क्योंकि प्रारब्ध को भगवान कभी नहीं बदलते हैं। लेकिन जब भगवान के भक्त पर परेशानी आती है तो वह संकटमोचन बनकर उसकी परेशानियों को दूर करने के लिए सहारा बन जाते हैं। वहीं हमें सद्मार्ग दिखाते हैं जिस पर चलकर हम धीरे-धीरे परेशानियों से बच कर निकल आते हैं। जबकि जो भगवान के भक्त नहीं होते हैं वह इन परेशानियों में घिरकर टूट जाते हैं। कथाव्यास ने कहा कि जीवन एक रंगमंच की तरह है। हमें कभी कठनाईयों और परेशानियों से नहीं घबराना चाहिए।