क्षेत्र में पूरे विधि विधान से पूजन संपन्ना

फोटो----8बीटीएल 5

मुलताई। गौ-खिलाई का कार्यक्रम करते गौसेवक।

मुलताई। नवदुनिया न्यूज

दीपावली के दूसरे दिन नगर सहित पूरे क्षेत्र में गौ एवं गोवर्धन पूजन विधि-विधान से किया। गौक्रांतिदल ने नगर के ताप्ती वार्ड में प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी पूजन का आयोजन किया। इसमें सदस्यों द्वारा गौ एवं गोवर्धन पूजन किया गया। इसमें बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। गौक्रांतिदल के गणेश साहू, सचिन विश्वकर्मा, प्रीतम, योगेश, कृष्णा साहू, ऋतिक एवं कुलदीप बडखाने आदि ने गौ एवं गोवर्धन पूजन का महत्व बताते हुए कहा कि मान्यताओं के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण ने इंद्र का अभिमान चूर करने के लिए अपनी छोटी उंगली से गोवर्धन पर्वत को उठाकर संपूर्ण गोकुल वासियों की इंद्र के कोप से रक्षा की थी। इंद्र के अभिमान को चूर-चूर करने के बाद श्रीकृष्ण ने कहा था कि कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा के दिन 56 भोग बनाकर गोवर्धन पर्वत की पूजा करें। गोवर्धन पर्वत से गोकुल वासियों को गायों के लिए चारा मिलता था और यही पर्वत बादलों को रोककर वर्षा भी कराता था, जिससे कृषि उन्नात होती थी,जिससे गोकुल समृद्ध था। इसलिए दीपावली के दूसरे दिन गौ एवं गोवर्धन पूजन का महत्व है।