भिंड। अटेर के जलपुरी गांव निवासी सीआरपीएफ जवान मुकेश बाबू जयंत (38) की श्रीनगर के पंथाचौक में गोली लगने से मौत हो गई है। सीआरपीएफ के कमांडिंग ऑफिसर ने जवान के घर फोन कर बताया गुस्से में मुकेश बाबू ने पहले दो साथी जवानों को गोली मारी फिर इंसास रायफल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। घटनाक्रम शनिवार रात 9:30 बजे का बताया है।

खबर सुनने के बाद से जवान की बुजुर्ग मां शांतिबाई जयंत का रो-रोकर बुरा हाल है। मां रोते हुए कह रही है दिन में 1 बजे बेटे ने फोन कर कहा था लगता है उसे कोई मार देगा। फोन करने के 9 घंटे बाद मौत की खबर आ गई। जवान के बेटे और बेटी ने हत्या की आशंका जाहिर की है। सीआरपीएफ की टुकड़ी पंथाचौक से जवान के शव को लेकर भिंड के लिए रवाना हो गई है।

सीआरपीएफ ने यह बताया घटनाक्रम

अटेर के जलपुरी गांव निवासी मुकेश बाबू जयंत पुत्र रामदयाल जयंत वर्ष 2003 में शिवपुरी से सीआरपीएफ में भर्ती हुए। वर्तमान में वे श्रीनगर के पंथाचौक कैंप में पदस्थ थे। शनिवार रात 11:30 बजे सीआरपी कैंप से सरपंच मेवाराम जयंत के पास फोन आया। कॉल करने वाले ने खुद को सीआरपीएफ का अफसर बताते हुए कहा कि मुकेश बाबू ने गुस्से में आकर साथी जवान रंजीत तिवारी निवासी झारखंड और जफरुद्दीन कुरैशी निवासी मध्यप्रदेश को गोली मार दी।

साथियों को गोली मारने के बाद में मुकेश बाबू ने इंसास रायफल से खुद को गोली मारकर उड़ा लिया। शव कैंप के बाथरूम में मिलना बताया। घटनाक्रम शनिवार रात 9:30 बजे का बताया है। घायल जवानों को 92 बेस अस्पताल में भर्ती करना बताया गया है। घर में किसी को यकीन नहीं हो रहा है कि मुकेश बाबू खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर लेंगे।

मां और बेटी से की थी दोपहर में बात

मां रोते हुए कह रही है कि शनिवार में दोपहर में 1 बजे मुकेश का फोन आया था। थोड़ी बात हुई, लेकिन वह डरा हुआ था। मुकेश ने कहा था कि मां लगता है कि मुझे कोई मारने वाला है। बेटी पूजा का कहना है कि उसने बात की थी तो पिता मुकेश बाबू ने यही बताया था। वे काफी डरे हुए लग रहे थे। बड़े बेटे बादशाह जयंत और बेटियों का कहना है कि उनके पिता की हत्या की गई है।

3 साल पहले पत्नी ने की आत्महत्या

जवान मुकेश बाबू की पत्नी पपीता देवी ने 31 जनवरी 2015 को आत्महत्या कर ली थी। परिवार में दो बेटे बादशाह, अंकित, दो बेटी पूजा व वंदना और बुजुर्ग मां हैं। बड़े बेटे का कहना है कि पिता के भिंड के जामना रोड पर रहने वाली महिला से संबंध थे। यह महिला श्रीनगर तक होकर आई है। बेटे बादशाह का कहना है कि पिता जब भी छुट्टी से वापस जाते तो महिला उन्हें दिल्ली तक छोड़ने जाती थी। 2 दिन पहले महिला ने जायदाद में हिस्सा मांगते हुए पिता को मरवाने की बात कही थी।

मई माह में होना है बेटी की शादी

श्रीनगर के पंथा चौक में गोली लगने से मृत जवान मुकेश बाबू जयंत पिछले 9 दिसंबर को गांव से छुट्टी काटकर वापस ड्यूटी पर गए थे। ड्यूटी जाने से पहले वे बड़ी बेटी पूजा की ग्वालियर में शादी तय कर गए थे। पूजा की ग्वालियर के युवक से 18 मई 2019 को शादी होना है। बेटी के हाथ पीले करने से पहले ही पिता की मौत हो गई। बेटी पिता को याद कर बेसुध हो रही है।