भिंड। अटेर के जलपुरी गांव निवासी सीआरपीएफ जवान मुकेश बाबू जयंत (38) की श्रीनगर के पंथाचौक में गोली लगने से मौत हो गई है। सीआरपीएफ के कमांडिंग ऑफिसर ने जवान के घर फोन कर बताया गुस्से में मुकेश बाबू ने पहले दो साथी जवानों को गोली मारी फिर इंसास रायफल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

घटनाक्रम शनिवार रात 9:30 बजे का बताया है। खबर सुनने के बाद से जवान की बुजुर्ग मां शांतिबाई जयंत का रो-रोकर बुरा हाल है। मां रोते हुए कह रही है दिन में 1 बजे बेटे ने फोन कर कहा था लगता है उसे कोई मार देगा। फोन करने के 9 घंटे बाद मौत की खबर आ गई। जवान के बेटे और बेटी ने हत्या की आशंका जाहिर की है। सीआरपीएफ की टुकड़ी पंथाचौक से जवान के शव को लेकर भिंड के लिए रवाना हो गई है।

सीआरपीएफ ने यह बताया घटनाक्रम

अटेर के जलपुरी गांव निवासी मुकेश बाबू जयंत पुत्र रामदयाल जयंत वर्ष 2003 में शिवपुरी से सीआरपीएफ में भर्ती हुए। वर्तमान में वे श्रीनगर के पंथाचौक कैंप में पदस्थ थे। शनिवार रात 11:30 बजे सीआरपी कैंप से सरपंच मेवाराम जयंत के पास फोन आया।

कॉल करने वाले ने खुद को सीआरपीएफ का अफसर बताते हुए कहा कि मुकेश बाबू ने गुस्से में आकर साथी जवान रंजीत तिवारी निवासी झारखंड और जफरुद्दीन कुरैशी निवासी मध्यप्रदेश को गोली मार दी। साथियों को गोली मारने के बाद में मुकेश बाबू ने इंसास रायफल से खुद को गोली मारकर उड़ा लिया। शव कैंप के बाथरूम में मिलना बताया। घटनाक्रम शनिवार रात 9:30 बजे का बताया है।