भिंड। भिंड के ऊमरी थाने में पुलिसकर्मियों पर हुई हमले की घटना में घायल हवलदार की इलाज के दौरान मौत हो गई। हवलदार उमेश बाबू का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था, लेकिन बुधवार सुबह उनकी मौत हो गई।

आपको बता दें कि बेहद सनसनीखेज घटनाक्रम में शराबखोरी कर हंगामा करने के मामले में थाने लाए गए एक आरोपी विष्णु राजावत ने थाने में ही रखी गेती उठाकर उमेश बाबू और एक अन्य पुलिसकर्मी पर जानलेवा हमला कर दिया था। इस आरोपी ने हवलदार उमेश बाबू के सिर पर गेती मार दी थी, जिससे वे कुर्सी पर बैठे-बैठे ही निढाल हो गए थे। उन्हें सिर में गंभीर चोट आई थी, जिसके बाद उन्हें पहले ग्वालियर और फिर दिल्ली रेफर किया गया था। लेकिन बुधवार को उनकी मौत हो गई।

मिलेगा शहीद का दर्जा

हवलदार उमेश बाबू थाने में हुए हमले में गंभीर रुप से घायल हुए थे। उन्हें पहले ग्वालियर और फिर दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हवलदार की इलाज के दौरान सुबह मौत हो गई। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया। सीएम ने ट्वीट में लिखा कि उमेश बाबू को शहीद का दर्जा दिया जाएगा। साथ ही उनके आश्रित परिजनों को 1 करोड़ रुपए की सहायता राशि और एक सदस्य को शासकीय सेवा में नौकरी भी दी जाएगी।

सिर में मारी थी गेती

गौरतलब है कि ऊमरी पुलिस ने रविवार को बाजार में उत्पात मचा रहे विष्णु सिंह राजावत निवासी रौन को पकड़ा था। विष्णु ने रविवार रात करीब 8 बजे हवलदार उमेश बाबू (50) के सिर में गेती मारी थी जबकि एक अन्य सिपाही गजराज सिंह (35) को भी गेती मारकर घायल किया था। पुलिस ने इस मामले में विष्णु पर जानलेवा हमले की धाराओं में प्रकरण दर्ज कर लिया था, लेकिन अब हवलदार की मौत के बाद विष्णु के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।