भिंड। नईदुनिया प्रतिनिधि

नेशनल लोक अदालत में शनिवार को तलाक की अर्जी लेकर आए दंपत्तियों को एक कमरे में 10 मिनट तक अकेले बात करने की छूट दी गई। इसके बाद जब दंपत्तियों से न्यायाधीश ने पूछा तो उनके जवाब थे कि हमें अलग नहीं रहना। अब हम साथ रहेंगे।

रौन की चंदावली निवासी निवासी मनोज और भावना कुशवाह अपनी तलाक की अर्जी लेकर न्यायाधीश संजीव कुमार अग्रवाल के न्यायालय में पेश हुए। जहां न्यायाधीश श्री अग्रवाल ने उन्हें 10 मिनट तक एक कमरे में अकेले बात करने की छूट दी। 10 मिनट बाद दंपत्ति पति-पत्नी को फिर से पूछा गया। इस पर दलवीर और ज्योति देवी का जवाब था कि हमें अलग नहीं रहना है। हम साथ-साथ रहेंगे। न्यायाधीश श्री अग्रवाल ने एक-दूसरे को फूल मालाएं पहनवाई ।

न्यायाधीश श्री अग्रवाल के न्यायालय आपस में झगड़े के मामले में पेश हुए। शहर की कबीर नगर निवासी ज्योति शाक्य व दलवीर शाक्य। इनकी शादी 3 साल पहले ही हुई है। करीब 2 साल पहले पति-पत्नि में झगड़ा हो गया और पत्नी मायके चली गई। पति ने पत्नी को साथ रखने के लिए न्यायालय की शरण ली। न्यायाधीश ने दोनों की काउंसलिंग करवाई तो दोनों साथ रहने के लिए राजी हो गए।

फीता काटकर किया लोक अदालत का शुभारंभ

लोक अदालत का शुूभारंभ सुबह 10.30 बजे जिला सत्र न्यायाधीश भारत सिंह औहरिया ने द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर माल्यापर्ण एवं द्वीप प्रज्जावलित किया गया। इस अवसर पर न्यायाधीश संजय कुमार द्विवेदी सहित अन्य न्यायाधीश व अभिभाषक उपस्थित थे।

बैंक स्टाल पर भी रहीं भीड़

नेशनल लोक अदालत में न्यायालय परिसर के बाहर एसबीआई, सेंटल बैंक, पीएनबी, ओरिएंटल, यूको बैंक ने स्टॉल लगाए।बैंकों ने ऋण बकाया मामलों में उपभोक्ताओं को 50 प्रतिशत से अधिक की छूट दी।

बिजली कंपनी के शिविर में रही खासी भीड़

बिजली कंपनी का शिविर न्यायालय की तीसरी मंजिल की छत पर लगाया था। यहां भी बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं की भीड़ रही। बिजली कंपनी ने घरेलू, व्यवसायिक कनेक्शनों पर भी अच्छी-खासी छूट रखी थी।

839 लोगों को मिला लाभ

शनिवार को जिला न्यायालय सहित मेहगांव, गोहद एवं लहार में 20 न्यायिक खंडपीठों का गठन किया गया। इसमें न्यायालयीन प्रकरण 245 का निराकरण किया गया जिसमें 551 पक्षकारों को लाभ मिला। 1 करोड़ 30 लाख 83 हजार 321 का अवार्ड पारित किया गया। इसके अलावा प्रीलिटिगेशन जिनमें बैंक, बिजली, बीएसएनएल, जलकर, संपत्तिकर के 234 प्रकरणों का निराकरण किया। 288 लोगों का लाभ मिला। इन्हें 11 लाख 39 हजार 160 रुपए की राशि वसूल की गई।