भिंड। चंबल नदी में नहाने गए दो युवक गड्ढे में फिसलने से डूब गए। युवकों के तीसरे साथी को चंबल पुल बना रहे कर्मचारियों ने रस्सा डालकर बचा लिया। नदी में डूबे दोनों युवकों को खोजने रविवार सुबह 11 बजे से देर शाम तक सर्चिंग ऑपरेशन चला, लेकिन युवक नहीं मिले। हादसा रविवार सुबह करीब 10 बजे अटेर में चंबल नदी में निर्माणाधीन पुल के पास का है। रोशनी रहने तक युवकों को खोजा जाएगा। इसके बाद सोमवार सुबह से सर्चिंग शुरू होगी। नदी में डूबे दोनों युवक अटेर के चौम्हो गांव के रहने वाले हैं। एसडीएम सिद्वार्थ पटेल चंबल नदी पर रहकर सर्चिंग ऑपरेशन पर नजर रखें हैं।

चौम्हो गांव निवासी बॉबी भदौरिया (20) पुत्र रामचंद्र भदौरिया, अंकित भदौरिया (19) पुत्र सुरेश भदौरिया और मिट्ठू (21) पुत्र रमेश भदौरिया रविवार को सुबह 9 बजे घर से अटेर जाने की कहहर निकले थे। अटेर से तीनों माता के मंदिर के लिए ध्वज लेने आए थे। अटेर आकर तीनों साथी चंबल नदी में नहाने के लिए आ गए। नदी पर आकर पुल निमार्ण से करीब 50 मीटर पहले तीनों ने अपने कपड़े उतारे। इसके बाद नदी में उतरे। पानी कम था तो पैदल नदी पार कर दूसरी ओर पहुंच गए। वहां से पैदल ही वापस लौटे। बीच नदी में आकर अचानक बॉबी और अंकित गड्ढे में चले गए। दोनों को गड्ढे में जाता देखकर मिट्ठू ने पकड़ना चाहा तो मिट्ठू भी गड्ढे में जाने लगे। इस दौरान पुल निर्माण में लगे कर्मचारियों ने मिट्ठू की ओर रस्सा फेंक दिया।

मिट्ठू ने रस्सा पकड़ लिया। इसके बाद कर्मचारियों ने मिट्ठू को बचा लिया। नदी से निकलकर मिट्ठू ने अपने साथियों के डूबने के बारे में बताया। बॉबी और अंकित के डूबने की सूचना मिलने पर अटेर थाने से एसआई महेश शर्मा स्थानीय तैराकों के साथ चंबल नदी किनारे आए। उन्होंने तैराकों से दोनों युवकों की खोज शुरू कराई। युवक नहीं मिले तो आला अधिकारियों को बताया गया। दोपहर में करीब 3 बजे होमगार्ड का सर्चिंग दल मोटर बोट लेकर चंबल नदी पहुंचा। होमगार्ड के दल ने दोपहर बाद से देर शाम तक सर्चिंग की, लेकिन दोनों युवकों का सुराग नहीं लगा। एसआई का कहना है अंधेरा होने पर ऑपरेशन बंद करना पड़ेगा। इसके बाद सोमवार सुबह दोबारा सर्चिंग शुरू करेंगे। एसडीएम पटेल, एसडीओपी आरपी मिश्रा मौके पर ही हैं।

इनका कहना है

नदी में युवकों के डूबने की सूचना मिली, उसके साथ ही स्थानीय तैराकों को लेकर सर्चिंग शुरू करा दी थी। वरिष्ठ अधिकारियों को भी सूचित किया था, लेकिन युवक मिले नहीं हैं। होमगार्ड के तैराकों से सर्चिंग कराई जा रही है।

-महेश शर्मा, एसआई, थाना अटेर