- आदर्श मार्ग में शामिल रोड की सुध लेने को कोई तैयार नहीं, रिटेल कारोबार 60 फीसदी तक कम हुआ

संत हिरदाराम नगर। नवदुनिया प्रतिनिधि

बैरागढ़ की सर्वाधिक आवाजाही वाले चंचल रोड पर 30 साल बाद दीपावली पर इतना सन्नाटा नजर आया। तोड़फोड़ के बाद से नगर निगम ने इस मार्ग को बेसुध छोड़ दिया है। दीपावली से पहले एवं बाद में इस मार्ग पर पैर रखने तक जगह नहीं बचती थी, पर यह पहली दीपावली थी जब बाजार सूने से नजर आए।

आदर्श मार्ग योजना में शामिल चंचल रोड से रोज 10 हजार से अधिक वाहन गुजरते हैं। इस मार्ग पर बैरागढ़ का सबसे बड़ा रिटेल मार्केट है। बाजार संकरा होने के कारण नगर निगम ने 10 माह पहले यहां से बड़े पैमाने पर तोड़फोड़ की थी। अतिक्रमण हटाओ मुहिम से व्यापारियों को करोड़ों रुपए का नुकसान उठाना पड़ा लेकिन इससे भी बड़ा नुकसान कारोबार में उठाना पड़ा। तोड़फोड़ के बाद से यहां ग्राहकों की आवाजाही कम हो गई है। नतीजा यह निकला है कि व्यापारियों को दीपावली जैसी सीजन का भी लाभ नहीं मिला। दरअसल नगर निगम 10 माह बाद भी सड़क का निर्माण नहीं कर सका है। सड़क से उठती धूल और जगह-जगह खड़े ठेलों के कारण ग्राहक नहीं आ रहे हैं।

सेंट्रल वर्ज से बिगड़ी रोड की सूरत

हाल ही में नगर निगम ने आनन-फानन में यहां पर सेंट्रल वर्ज बना दिया। बिजली के खंभों की शिफ्टिंग किए बगैर सेंट्रल वर्ज बनाने से सड़क दोनों तरफ से संकरी हो गई है। संत कंवरराम चौराहे से प्रेम रामचंदानी मार्ग छोर तक दुपहिया वाहन तक निकलना मुश्किल हो गया है। त्यौहारी सीजन में सेंट्रल वर्ज वाहनों की सुगम आवाजाही में बड़ी बाधा बना हुआ है। दरअसल सड़क पर खड़े खंभों की वजह से सड़क संकरी नजर आने लगी है। जब तक खंभों को सेंट्रल वर्ज में शिफ्ट नहीं किया जाता तब तक इस मार्ग से वाहन चालकों की परेशानी खत्म नहीं हो सकती।

अधूरी सड़क बनी परेशानी का सबब

जिस हिस्से से अतिक्रमण हटाए गए थे उसे अभी तक चौड़ा नहीं किया गया है। कच्ची और अधूरी पर पैदल चलना मुश्किल हो गया है। सुबह एवं दोपहर के समय इस मार्ग से स्कूल बसें निकलती हैं। यह बसें जाम में फंस रही हैं। कच्ची सड़क के कारण ही ग्राहक इस मार्ग पर नहीं आ रहे हैं। प्रमुख व्यवसाई श्याम रूघानी के अनुसार सड़क चौड़ीकरण में हुए विलंब का व्यापारियों को बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ा है। एक साल से कारोबार ठप्प पड़ा है। व्यवसाई हितेश सोनी का कहना है कि नगर निगम को सड़क निर्माण एवं बिजली के खंभों की शिफ्टिंग तत्काल करनी चाहिए।