भोपाल। संतान प्राप्ति व पति की लंबी आयु की कामना के साथ ही सौभाग्यवती होने के लिए बुधवार को महिलाओं द्वारा हरतालिका तीज का व्रत रखा जाएगा। भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर यह पर्व बुधवार को भक्तिभाव से मनाया जाएगा। इसमें भगवान श्री गणेश व शंकर-पार्वती की विशेष पूजा अर्चना की जाएगी।

ब्रह्म शक्ति ज्योतिष संस्थान के ज्योतिषाचार्य पं. जगदीश शर्मा ने बताया कि हरतालिका तीज बुधवार को है। साथ में रवि एवं शुक्ल योग का सहयोग भी बना रहा है। तुला राशि का चंद्रमा चित्रा नक्षत्र के साथ मिलकर शुक्ल युग का संयोग बना रहा है। इस योग में हरतालिका तीज का पड़ना विशेष महत्व रखता है। इस दिन व्रत करने पर महिलाएं अखंड सौभाग्यवती होती हैं। वहीं कुंवारी कन्याओं द्वारा अच्छे वर की प्राप्ति के लिए भी यह व्रत किया जाता है।

हरतालिका तीज की उदयातिथि मंगलवार शाम 7.30 बजे से शुरू होगी जो बुधवार शाम 6.22 तक रहेगी। पं. शर्मा ने बताया कि हरतालिका तीज के पूजन का महत्व प्रदोष काल (शाम) को ही सही माना जाता है। इसलिए मंदिरों व घरों में तीज का विशेष पूजन शाम को शुरू होता है व देर रात तक भजन कीर्तन जारी रहता है। हरतालिका तीज पर बालू के शिवलिंग बनाकर उनकी पूजा करने का विधान है।