भोपाल, नवदुनिया स्टेट ब्यूरो। मध्यप्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी की बुधवार को पहली बैठक हुई। इसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पदाधिकारियों से हाथ उठवाकर उनकी चुनाव लड़ने के बारे में इच्छा जानी। यहां एआईसीसी महासचिव और प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया ने अपील की कि 65 साल से ज्यादा उम्र वाले और तीन-चार बार चुनाव लड़ चुके नेता अब युवाओं को मौका देने के लिए आगे आएं। पीसीसी में सुबह दस बजे कमलनाथ की अध्यक्षता में बैठक शुरू हुई।

कुछ पदाधिकारी बैठक शुरू होने के बाद पहुंचे। कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी बैठक में तब पहुंचे जब आभार व्यक्त हो रहा था। मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल ने बताया कि सचिन यादव बैठक में शामिल नहीं हुए। बैठक में सबसे पहले बाबरिया ने पदाधिकारियों को भय, शोषण, अराजकता और माफियाराज से प्रदेश को आजाद कराने की शपथ दिलाई। कार्यकारिणी ने किसानों की आत्महत्या, मप्र सरकार की वित्तीय स्थिति, युवाओं को रोजगार, महिला उत्पीड़न सहित भाजपा के खिलाफ शंखनाद के संकल्प का राजनीतिक प्रस्ताव पारित किया

प्रत्याशियों की पहली सूची 31 अगस्त तक

सूत्रों के मुताबिक बैठक में कमलनाथ ने पदाधिकारियों के बीच काम के बंटवारे पर बात की। इसके लिए उन्होंने उनकी इच्छा जानना चाही कि कौन-कौन नेता विधानसभा चुनाव लड़ना चाहता है? इसके लिए उन्होंने हाथ उठवाकर पहचान की। नाथ ने कहा कि जो भी पदाधिकारी चुनाव लड़ना चाहते हैं उन्हें उसके मुताबिक ऐसा काम दिया जाएगा, जिससे वे अपने क्षेत्र को भी समय दे सकें। सूत्र बताते हैं कि प्रत्याशियों की पहली सूची 31 अगस्त तक जारी हो जाएगी, जिसमें लगभग 70 उम्मीदवारों के नाम होंगे।

बुजुर्ग नेताओं के हितों का संरक्षण होगा

सूत्रों ने बताया कि बाबरिया ने 65 साल से ज्यादा उम्र वाले बुजुर्गों और 3-4 बार चुनाव लड़ चुके नेताओं से कहा कि अगर इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगे तो पार्टी उन्हें संगठन में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी देगी। सरकार बनने पर उनके हितों का संरक्षण भी किया जाएगा। कार्यकारिणी की बैठक में एआईसीसी के प्रभारी सचिव संजय कपूर, जुबेर खान व सुंधाशु त्रिपाठी सहित चंद्रप्रभाष शेखर, मानक अग्रवाल, नरेंद्र सलूजा, राजीव सिंह और गोविंद गोयल भी शामिल हुए।

दो उपाध्यक्षों को ब्लॉक मंडलम का मिला काम

सूत्र बताते हैं कि नई कार्यकारिणी के दो उपाध्यक्षों अशोक सिंह और अर्चना जायसवाल को 5-5 संभागों के ब्लॉक, मंडलम, सेक्टर का काम सौंपा गया है। ये उपाध्यक्ष पीसीसी के 800 ब्लॉक में से, जिनमें अध्यक्ष की नियुक्ति नहीं हुई, उनके पैनल में से एक-एक नेता का नाम सुझाएंगे तथा मंडलमसेक्टर का सत्यापन भी करेंगे। एक महीने में ये पदाधिकारी अपनी रिपोर्ट पीसीसी को सौंपेंगे।

मिस्त्री 13 व 14 को भोपाल में

मीडिया प्रभारी अग्रवाल ने बताया कि विधानसभा चुनाव के प्रत्याशियों के चयन के लिए बनी छानबीन समिति 13 और 14 जुलाई को भोपाल आ रही है। समिति के अध्यक्ष मधुसूदन मिाी 13 को सांसद, विधायक, पूर्व सांसद व पूर्व विधायकों से बातचीत करेंगे। अगले दिन वे जिला अध्यक्षों व अन्य प्रमुख लोगों से मुलाकात करेंगे।