Naidunia
    Sunday, December 17, 2017
    PreviousNext

    ब्लू व्हेल गेम का टास्क पूरा नहीं किया तो धमकी भरे मैसेज, घबराए छात्र घर से भागे

    Published: Thu, 12 Oct 2017 11:02 PM (IST) | Updated: Fri, 13 Oct 2017 12:01 PM (IST)
    By: Editorial Team
    sucide game 12 10 2017

    भोपाल। ब्लू व्हेल गेम में फंसे दो बच्चों द्वारा डर के मारे घर छोड़ देने का मामला सामने आया है। बरेली रायसेन के रहने वाले नौंवी कक्षा के दो छात्रों ने ब्लू व्हेल गेम का टास्क पूरा नहीं किया तो उन्हें धमकी भरे मैसेज आने लगे कि उनके पिता का मोबाइल फट जाएगा। इससे बच्चे इतना घबरा गए कि वो मोबाइल फोन बंद कर घर से भाग गए और हबीबगंज स्टेशन पहुंच गए।

    गनीमत रही कि मंगलवार रात 9:30 बजे जीआरपी के हवलदार ने उन्हें देख लिया पूछताछ के बाद सकुशल परिजनों के सुपुर्द कर दिया। घटना के बाद से पुलिस जांच में जुटी है। वह सायबर सेल की मदद से मोबाइल की कॉल डिटेल के जरिए सच्चाई का पता लगा रही है।

    जानकारी के मुताबिक बरेली के 13 साल अजय (परिवर्तित नाम) और अमित (परिवर्तित नाम) 9 वीं कक्षा के छात्र हैं। एक छात्र के पिता किराना कारोबारी और दूसरे के पिता खेती-किसानी करते हैं। दोनों छात्र 10 अक्टूबर को हबीबगंज स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 पर ट्रैके के किनारे खड़े हुए थे। तभी जीआरपी के आरक्षक राजेश शर्मा की नजर उन पर पड़ी।

    राजेश ने पूछताछ की तो छात्रों ने बताया कि वे अपने पिता के साथ आए और उनके साथ ही हैं। इसके बाद राजेश वहां से चले गए। आधे घंटे बाद राजेश दोबारा जब उसी स्थान पर पहुंचे तो छात्र वहीं खड़े दिखे। उन्होंने ट्रैक से बच्चों को दूर किया और उनके पिता का नंबर पूछा। छात्रों ने नंबर होने से इंकार कर दिया। संदेह होने पर दोनों को थाने लाया गया, जहां दोनों ने अपनी कहानी बयां की।

    बच्चों ने बताया ब्लू व्हेल गेम का सच

    हवलदार राजेश के अनुसार दोनों छात्र काफी डरे हुए थे। उनके के पास स्मार्ट फोन थे। उनका कहना था कि किसी ने उन्हें ब्लू व्हेल गेम की लिंक भेजी थी। इसके बाद वह गेम खेलने लगे। गेम में उनको बोला गया कि वह हाथ पर नुकीली चीज से व्हेल बनाएं, लेकिन छात्रों ने डर के कारण पेन से उसका चित्र बना दिया था। इसके बाद उन्हें टास्क पूरा नहीं करने पर पिता का मोबाइल फटने की धमकी भरे कॉल आने लगे। इस डर के कारण वे घर से मोबाइल फोन ऑफ कर भागकर भोपाल आ गए थे।

    जीआरपी से फोन आया तब मिली राहत

    बच्चे मंगलवार सुबह से घर से गायब हो गए थे। दिनभर उनकी तलाश करते रहे, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। देर रात जीआरपी भोपाल से फोन आया कि बच्चे मिल गए हैं। तब हमारी जान में जान आई। पुलिस का कहना है कि बच्चों ने बताया है कि वह ब्लू व्हेल गेम के जाल में फंस गए थे। इस कारण भागकर यहां आ गए थे। उन्होंने अपने फोन भी बंद कर लिए थे।

    जैसा कि बच्चे के पिता ने नवदुनिया को बताया

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें