भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। बैरागढ़ में लंबे समय से दो शराब ठेकेदारों के बीच शराब बेचने को लेकर चल रही वर्चस्व की होड़ मंगलवार दोपहर को खून खराबे में तब्दील हो गई। फिल्मी स्टाइल में दो जीपों से एक शराब ठेकेदार के ढाबे पर पहुंचे बदमाशों ने पहले हवाई फायर किया। इसके बाद ढाबे में घुसकर 3-4 फायर किए। छर्रे लगने से दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। दिनदहाड़े सीहोर नाका के पास हुई वारदात से सनसनी फैल गई। पुलिस ने इस मामले में आठ नामजद लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया है। वारदात में इस्तेमाल जीपें और बंदूक भी जब्त कर ली गई है।

बैरागढ़ इलाके में शराब ब्रिकी का ठेका सोम डिस्टलरी के अलावा किशन आसुदानी उर्फ खग्गू का है, लेकिन शराब बेचने को लेकर दोनों फर्मों के बीच प्रतिस्पर्धा चलती है। आरोप है कि दोनों ही ठेकेदार अपने गुर्गों की मदद से एक दूसरे के इलाकों में अवैध रूप से शराब बिकवाते हैं। इससे अक्सर झड़प की स्थिति बनती रही है।

शिकायत के बाद बढ़ी रंजिश

बैरागढ़ थाना प्रभारी अजय मिश्रा ने बताया कि कुछ दिनों पहले किशन आसुदानी के लोगों ने सोम कंपनी के कुछ लोगों की खजूरी सड़क थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। उसके बाद से दोनों फर्मों के बीच रंजिश बढ़ गई थी। इसी क्रम में मंगलवार दोपहर करीब 12ः30 बजे दो जीपों में सवार होकर आधा दर्जन से अधिक बदमाश शिखर होटल के सामने स्थित ढाबा प्लाजा इन के सामने पहुंचे। जीप से उतरे बदमाशों ने पहले एक हवाई फायर किया। इसके बाद ढाबे में अंदर घुसकर 3-4 गोलियां चलाईं। 12 बोर की बंदूक से चली गोलियों के छर्रे खग्गू के कर्मचारी जितेंद्र रजक और वीरसिंह के पैरों में धंस गए।

बताया जाता है कि घटना के समय ठेकेदार खग्गू और ढाबा मैनेजर मोहितसिंह परिहार भी वहां मौजूद थे। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश बंदूक लहाराते हुए फरार हो गए।

अस्पताल में घायल भर्ती

घायलों को उपचार के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी सेहत बेहतर बताई जा रही है। टीआई मिश्रा के मुताबिक इस मामले में आरोपित छबीले पहलवान, हिम्मत, भानू,नीरज,राजू, संजय, सूरज और ललित के खिलाफ हत्या के प्रयास सहित विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया गया है।

ढाबा में शराब परोसना है विवाद की वजह

बैरागढ़ में अंग्रेजी शराब की दो दुकानें हैं। एक दुकान सोम कंपनी के पास है। दूसरी खग्गू के पास है। दोनों दुकानों का एरिया भी तय है। दोनों के बीच लंबे समय से प्रतिस्पर्धा है। शराब पीने वाले उसी दुकान से खरीदते हैं, जहां कम दाम में मिले। इसी कारण दोनों के बीच अक्सर विवाद होता है। खग्गू का प्लाजा ढाबा सीहोर नाके पर है, यहां पहले अधिकृत अहाता था। सोम कंपनी की दुकान भी सीहोर नाके पर है। नियमित रूप से शराब पीने वाले अक्सर इस ढाबे में आकर बैठते हैं। सोम कंपनी लंबे समय से इस ढाबे को बंद कराने के लिए प्रयासरत है। कंपनी का मानना है कि ढाबे में शराब मिलने से उसकी फर्म को आर्थिक नुकसान होता है। इसी विवाद के कारण दो बदमाश बंदूक लेकर पहुंचे थे।

छबीले पहलवान ने गोली मारी

मैं नाश्ता करने ढाबे पर पहुंचा था। अचानक सोम कंपनी में काम करने वाले छबीले पहलवान और राकेश ढाबे पर पहुंचे। मेरे तरफ बंदूक तानी और फायर कर दिया। अंदर आने से पहले बाहर भी फायर किया गया था।

- वीरसिंह ढकोरिया, फायरिंग से घायल