भोपाल (ब्यूरो)। निलंबित आईएएस अरविंद जोशी और टीनू जोशी की बर्खास्तगी की फाइल केन्द्रीय लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) में अटकी हुई है। जोशी दंपति की बर्खास्तगी के मामले पर निर्णय लेने के लिए यूपीएससी ने सितंबर में 11 सदस्यीय कमेटी गठित की थी, लेकिन तीन माह गुजरने के बावजूद कमेटी उनकी बर्खास्तगी के मामले में अब तक निर्णय नहीं ले पाई है।

उल्लेखनीय है कि जोशी दंपति के निवास पर वर्ष 2011 में आयकर छापे के दौरान 3 करोड़ रुपए कैश एवं बड़े पैमाने पर आय से अधिक संपत्ति मिली थी। राज्य सरकार ने आय से अधिक संपत्ति को राजसात करने के लिए प्रकरण विशेष न्यायालय को सौंप दिया। वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार ने आईएएस जोशी दंपति को सेवा से बर्खास्त करने के संबंध में 1 अप्रैल 2012 को केन्द्रीय कार्मिक एवं प्रशिक्षण मंत्रालय (डीओपीटी) को अनुशंसा की। प्रकरण का परीक्षण करने के बाद डीओपीटी ने अगस्त में जोशी दंपति को बर्खास्त करने के लिए यूपीएससी को प्रकरण भेज दिया।

डीओपीटी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यूपीएससी की सहमति मिलने के बाद ही जोशी दंपत्ति को बर्खास्त करने की कार्रवाई की जाएगी। वहीं यूपीएससी के एक सदस्य ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि अभी यह मामला 11 सदस्यीय समिति में विचाराधीन है।