भोपाल। सतना लोकसभा सीट से भाजपा के प्रत्याशी और सांसद गणेश सिंह के खिलाफ कांग्रेस ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (सीईओ) कार्यालय से आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत की है। कांग्रेस के चुनाव आयोग कार्य प्रभारी जेपी धनोपिया ने बुधवार को लिखित शिकायत में सांसद गणेश सिंह पर नजदीकी रिश्तेदार और नगर पंचायत रामनगर के अध्यक्ष राम सुशील पटेल की बेटी की शादी में शामिल होने और इस समारोह का इस्तेमाल चुनावी प्रचार के लिए करने का आरोप लगाया है। वहीं पार्टी ने भाजपा नेताओं द्वारा राज्य सरकार के खिलाफ बयानबाजी को गलत बताते हुए आयोग से शिकायत की है।

धनोपिया ने शिकायत में कहा है कि इस शादी में लोकसभा क्षेत्र के 20 हजार लोगों को कार्ड देकर आमंत्रित किया गया था। इसमें से करीब 15 हजार लोग 19 अप्रैल को शादी में शामिल भी हुए और सामूहिक भोज दिया। इसके लिए ग्रामीण अंचल से आदिवासियों को बसों में भरकर लाया गया।

इस दौरान सिंह ने अपना प्रचार भी किया। उन्होंने आरोप लगाया कि सांसद ने अपने प्रचार के लिए रिश्तेदार से सामूहिक भोज का आयोजन करवाया है। मामले में धनोपिया ने दोनों के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज करने की मांग की है। इस मामले में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने सतना कलेक्टर से रिपोर्ट मांगी है।

मप्र कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने भाजपा नेताओं की बयानबाजी को गलत ठहराते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (सीईओ) कार्यालय से शिकायत की है। सलूजा का कहना है कि भाजपा नेता ऐसे बयान देकर प्रदेश में जानबूझकर अस्थिरता का माहौल तैयार कर रहे हैं। वे अधिकारियों-कर्मचारियों में भी भ्रम का माहौल तैयार कर रहे हैं।

उन्होंने शिकायत में एक दिन पहले विदिशा में दिए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बयान पर भी आपत्ति दर्ज कराई है। सलूजा के मुताबिक चौहान ने मतदाताओं से कहा था कि आपका एक वोट दो काम आएगा। एक दिल्ली में सरकार बनेगी और दूसरा प्रदेश में दोबारा भाजपा की सरकार बनेगी। उन्होंने चुनाव आयोग से ऐसी बयानबाजी पर रोक लगाने की मांग की है।