रीवा। प्रदेश की राजनीति में सफेद शेर के नाम से मशहूर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्रीनिवास तिवारी का शुक्रवार को दिल्ली के फोर्टिस (एस्कॉर्ट) अस्पताल में शाम 4.12 बजे निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे।

श्रीनिवास तिवारी लगातार 10 वर्ष तक मप्र विधानसभा के अध्यक्ष रहे। सबसे कम उम्र के विधायक और 7 घंटे तक सदन में लगातार बोलने का रिकॉर्ड भी उनके नाम रहा है।

विधानसभा अध्यक्ष रहते हुए दलीय राजनीति से ऊपर उठकर उन्होंने राजनीति की जो परिभाषा दी, आज भी लोग उसका सम्मान करते हैं। श्रीनिवास तिवारी के निधन की सूचना से विंध्य में शोक की लहर है।

उनके निधन से विंध्य की राजनीति के एक युग का अवसान

मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष श्रीनिवास तिवारी के निधन पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीतासरन शर्मा, उपाध्यक्ष डॉ राजेन्द्र सिंह, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं जनसंपर्क मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा सहित अन्य मंत्री व नेताओं ने शोक संवेदना व्यक्त की हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने शोक संदेश में कहा कि वे संसदीय मामलों के ज्ञाता थे। उनका प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। विधानसभा अध्यक्ष डॉ शर्मा व उपाध्यक्ष डॉ सिंह ने अपने शोक संदेश में कहा कि प्रदेश के प्रखर संसदविद एवं वरिष्ठ राजनेता खो दिया।

जनसम्पर्क मंत्री डॉ.मिश्र ने कहा कि उन्होंने निरंतर सेवाभाव से कार्य किया। उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने उनके निधन को विंध्य की राजनीति में एक युग का अंत बताया। मंत्री माया सिंह, राज्यमंत्री दीपक जोशी व विश्वास सारंग सहित अनेक नेताओं ने भी शोक संवेदन प्रकट की है।