भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। एमएलबी कॉलेज के पास बुधवार रात तेज रफ्तार बाइक डिवाइडर से टकराने से पुलिस आरक्षक हरीश यादव की मौत हो गई। हादसे में आरक्षक के पीछे बैठा उसका साथी भी घायल हो गया। घटना के समय सिपाही हेलमेट नहीं पहने था।

विडंबना यह है कि करीब 2 साल पहले कमलापार्क के पास इसी सड़क पर मृतक के पिता का हार्ट अटैक से निधन हो गया था। वह ट्रैफिक में एएसआई थे। उनकी जगह हरीश को सिपाही के पद पर अनुकंपा नियुक्ति मिली थी।

श्यामला हिल्स पुलिस के मुताबिक हरीश पुत्र स्व. प्रेमनारायण यादव (24) डीआरपी लाइन में आरक्षक के पद पर पदस्थ था। बुधवार शाम को वह अपने दोस्त विशाल अहिरवार के साथ बाइक से पुराने शहर गया था। रात में हरीश घर लौट रहा था। रात करीब 12 बजे दोनों एमएलबी कॉलेज के सामने से गुजर रहे थे, तभी रफ्तार तेज रहने के कारण मोड़ पर बाइक का संतुलन बिगड़ गया। इससे बाइक डिवाइडर से टकरा गई। हादसे में पीछे बैठा विशाल तो वहां गिर गया,जबकि हरीश, बाइक के साथ करीब 50 फीट तक सड़क पर घिसटता चला गया।

सूचना मिलने पर घायलों को एबुलेंस से अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टर ने हरीश को मृत घोषित कर दिया। विशाल की हालत खतरे से बाहर बताई जाती है।

घर से निकलते समय मां ने कहा था बेटा हेलमेट लेता जा

पिता की मौत के बाद हरीश को सिपाही के पद पर अनुकंपा मिलने से परिवार को आजीविका का सहारा मिल गया था। नौकरी में आने के बाद परिवार ने अपना मकान बनाने के लिए नीलबड़ में प्लॉट लिया था। उसे बनाने के लिए करीब 12 लाख रुपए का लोन भी ले लिया था।

हरीश की मौत के बाद परिवार पर मुसीबत का पहाड़ टूट पड़ा है। बताया जाता है कि हरीश बुधवार शाम को जब बाइक लेकर घर से निकल रहा था,तो उसकी मां ने कहा भी था कि बेटा हेलमेट लेता जा। लेकिन हरीश बाइक लेकर चलता बना था। सिर में लगी गहरी चोट ही उसकी मौत की वजह बनी। परिवार में उसका बड़ा भाई इंद्रजीत है। वह निजी फर्म में काम करता है।