भोपाल। शराब पीने वालों को इसकी बोतल चेताएगी 'शराब का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक" है। बोतल में यह भी लिखा रहेगा, 'सुरक्षित रहें- शराब पीकर गाड़ी न चलाएं"।

अलग-अलग स्टडी में यह सामने आया है कि शराब स्वास्थ्य पर बुरा असर डालती है। इससे लिवर खराब होता है। इस आधार पर फूड सेफ्टी एवं स्टैंडर्ड अथारिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआई) ने शराब की बोतल पर चेतावनी लिखना अनिवार्य कर दिया है। एक अप्रैल 2019 के पहले सभी बोतलों में चेतावनी लिखना होगी।

फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड एक्ट 2006 में यह चेतावनी जोड़ने की पिछले साल मार्च में अधिसूचना जारी की गई थी। इसमें यह तय किया गया था कि यह चेतावनी 3 एमएम साइज वाले अक्षरों से लिखी जाएगी। इस पर शराब निर्माताओं ने आपत्ति दर्ज कराई थी।

उन्होंने कहा था कि छोटी बोतलों में इस साइज के अक्षरों में चेतावनी लिखना संभव नहीं है। इसके बाद 15 जनवरी को शराब निर्माताओं के एक प्रतिनिधि मंडल ने एफएसएसएआई के अधिकारियों से मुलाकात की थी। इसमें सहमति बनी है कि 200 एमएल से छोटी शराब की बोतलों में 1.5 एमएम व इससे ज्यादा की बोतलों में 3 एमएम साइज के अक्षर से चेतावनी लिखी जाएगी।

इसके बाद एफएसएसएआई के ज्वाइंट डायरेक्टर प्रवीन जरगर ने 5 फरवरी को सभी राज्यों के खाद्य सुरक्षा आयुक्तों को पत्र लिखकर इस पर अमल कराने को कहा है। एक अप्रैल के 2019 तक ट्राजिशन पीरियड दिया गया है। यानी इसके पहले इस निर्देश पर अमल हो जाएगा।

इनका कहना है

शराब के सेवन से लिवर खराब होने लगता है। इस वजह से आगे चलकर पेट में पानी भर जाता है। शराब पीकर वाहन चलाने से एक्सीडेंट के भी कई मामले अस्पतालों में देखने को मिलत

डॉ. तरुण भारद्वाज गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट, भोपाल