Naidunia
    Monday, February 19, 2018
    PreviousNext

    बाजार में एक नकली नोट खप गया तो घर में ही छापने लगा 500 के नोट

    Published: Sun, 03 Dec 2017 04:08 AM (IST) | Updated: Sun, 03 Dec 2017 03:40 PM (IST)
    By: Editorial Team
    fake note 2017123 154012 03 12 2017

    भोपाल। क्राइम ब्रांच ने नकली नोट की खेप लेकर आए रायसेन के दो युवकों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से 70 हजार की नकली करंसी बरामद की है। सभी नकली नोट 500 के हैं। मुख्य आरोपी को कोई व्यक्ति नकली नोट थमा गया था। वह उसे किसी तरह बाजार में खपाने में कामयाब हो गया था। इसके बाद घर पर ही कलर प्रिंटर,स्कैनर लगाकर उसने 500 के नकली नोट छापना शुरू कर दिया था।

    एएसपी क्राइम ब्रांच रश्मि मिश्रा ने बताया कि मुखबिर से पता चला था,कि दो युवक पिपलानी क्षेत्र में नकली नोट ठिकाने लगाने के लिए आने वाले हैं। इस आधार पर संबंधित प्वाइंट पर पुलिस ने निगरानी बढ़ा दी। वहां पहुंचे दो संदिग्ध युवकों की तलाशी ली गई। उनके पास से 5-5 सौ रुपए के नोट बरामद हुए। जांच में सभी नोट नकली पाए गए। आरोपियों की पहचान बेगमगंज निवासी सोनू राय (25) और सोनू कुशवाह के रूप में हुई। सोनू बारहवीं और सोनू कुशवाह आठवीं पास है।

    70 हजार के नकली नोट के बदले मिलना थे असली 30 हजार

    एएसपी ने बताया कि आरोपी नकली नोट की यह खेप पिपलानी में किसी अज्ञात व्यक्ति को देने वाले थे। इसके बदले में उन्हें 30 हजार रुपए के असली नोट मिलना थे। साथ ही बताया कि वह पहली बार ही नकली नोट का सौदा करने आए थे। इसके पहली भी उन्होंने नकली नोट तैयार किए थे,लेकिन उनकी क्वालिटी घटिया होने से उन्हें जलाकर नष्ट कर दिया था।

    पहले आधार कार्ड बनाता था

    सोनू राय पहले आधार कार्ड बनाने का काम करता था। तब उसे कोई ग्राहक 500 का नकली नोट थमा गया था। दुकान पर आए दूसरे ग्राहक को उसने जब वह नोट दिया,तो उसने नकली बताते हुए लेने से मना कर दिया। लेकिन सोनू किसी तरह उस नकली नोट को बाजार में चलाने में कामयाब हो गया,तो उसके दिमाग में नकली नोट बनाने का आइडिया आ गया। उसने बाजार से नकली नोट छापने के लिए कागज, कलर, स्कैनर सहित अन्य उपकरण खरीदे। इसके बाद नकली नोट छापने लगा। इस काम में वह बचपन के दोस्त सोनू कुशवाह की मदद लेता था। सोनू चाय का ठेला लगाता है।

    7 सीरीज के हैं,70 हजार नकली नोट

    आरोपियों के पास बरामद नकली नोट 7 अलग-अलग सीरीज के हैं। आरोपियों ने पांच-पांच सौ के सात असली नोटों को स्कैन कर नकली नकली नोट बनाए थे। यह काम इतनी सफाई से किया गया है,कि सरसरी नजर से देखने पर नोट के नकली होने का संदेह तक नहीं होता है।

    कर्ज चुकाने के लिए शार्टकट का रास्ता चुना

    पुलिस की पूछताछ में आरोपी सोनू राय ने बताया कि उसे पड़ोसियों से कर्ज लेकर अपने किसी करीबी को डेढ़ लाख रुपए उधार दिए थे। वह रुपए नहीं लौटा रहा था,जबकि पड़ोसी लगातार अपनी रकम वापस मांग रहा था। कर्ज चुकाने के लिए शार्टकट का रास्ता चुनते हुए नकली नोट छापना शुरू कर दिया।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें