भोपाल। छात्रावास संचालक अश्विनी शर्मा की दरिंदगी की शिकार बनी मूक-बधिर छात्राएं पुलिस के साथ रविवार को अवधपुरी स्थित उस छात्रावास में पहुंची, जहां उनके साथ हैवानियत का खेल खेला जाता था। इशारे की भाषा में पारंगत पुरोहित दंपती की मदद से उन्होंने इशारों में बताया कि कब-कब और कहां उनके साथ क्या हुआ।

करीब सवा घंटे के दौरान एफएसएल टीम ने भी मौके से जरूरी साक्ष्य जुटाए। टीम जब वहां से निकलने लगी तो धार कोतवाली में अश्विनी के खिलाफ दुष्कर्म की शिकायत दर्ज कराने वाली युवती ने 201 नंबर मकान की तरफ इशारा कर बताया कि इस मकान में भी उसके साथ गलत काम किया गया था।

वहीं पुलिस ने आरोपित की निशानदेही पर छात्रावास से एटीएम कार्ड, पीड़िताओं से संबंधित दस्तावेज, हाजिरी रजिस्टर आदि जब्त किया है। इसके अलावा सामाजिक न्याय विभाग की अधीक्षक प्रभा सोमवंशी से पूछताछ कर बयान दर्ज किए गए। अवधपुरी क्षेत्र की पॉश क्रिस्टल आईडल कॉलोनी में छात्रावास चलाने वाले अश्विनी शर्मा के खिलाफ अभी तक चार मूक-बधिर युवतियां शिकायत दर्ज करा चुकी हैं।

इनमें से दो की शिकायत पर अश्विनी के खिलाफ दुष्कर्म का और अन्य दो युवतियों की शिकायत पर छेड़छाड़ का केस किया गया है। इसी क्रम में एसआईटी में शामिल एएसपी रश्मि मिश्रा, सीएसपी भूपेंद्रसिंह, इशारे की भाषा में पारंगत ज्ञानेंद्र पुरोहित, श्रीमती मोनिका पुरोहित फरियादी चारों लड़कियों को लेकर शाम 4:40 बजे अवधपुरी स्थित छात्रावास पर पहुंचे। उनके साथ एफएसएल टीम भी मौजूद थी।

कॉलोनी के मकान नंबर-172 में जाकर पीड़ित लड़कियों ने उस स्थान (कमरों) को बताया,जहां उनके साथ दरिंदगी की जाती थी। इस दौरान फोरेंसिक विशेषज्ञ जरूरी साक्ष्य भी जुटा रहे थे। मौका मुआयना करने के बाद मकान को फिर सील कर दिया गया। करीब सवा घंटे बाद टीम वहां से पीड़ितों को लेकर बाहर निकली, तभी उनमें से एक युवती ठिठककर खड़ी हो गई। उसने मकान नंबर 201 की तरफ इशारा कर बताया कि इस मकान में भी उसके साथ गलत काम किया गया।

इस मकान में पहले अश्विनी का हॉस्टल था। लेकिन अब वहां किसी अन्य का रहवास होने से पुलिस टीम उस मकान में नहीं गई। पुलिस टीम पीड़ित लड़कियों को साथ लेकर शाम 5:52 बजे वहां से रवाना हो गई। इस दौरान आरोपित अश्विनी शर्मा से पीड़िताओं का सामना कराते हुए पुख्ता शिनाख्त भी कराई गई।

गौरतलब है कि अश्विनी ने छात्रावास के लिए कॉलोनी के मकान नंबर 201,206 को भी इस्तेमाल किया था। वर्तमान में वह मकान नंबर 172 में रह रहा था। एएसपी दिनेश कौशल ने बताया कि सोमवार को अश्विनी का पुलिस रिमांड समाप्त हो रहा है। उसे सोमवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

गौरतलब है कि अश्विनी शर्मा सामाजिक न्याय विभाग की अनुमति से मूक-बधिक लड़कियों के लिए वर्ष-2013 से छात्रावास संचालित कर रहा था। इस दौरान 21 लड़कियों ने उसके छात्रावास में रहकर आईटीआई की पढ़ाई की थी। बाद में उसने चार लड़कियों को ट्रेनिंग,नौकरी का झांसा देकर रोक लिया था।

इनमें से दो के साथ अश्लील हरकत की,तो वे अश्विनी से मारपीट कर अपने घर चली गई थीं। दो लड़कियों के साथ अश्विनी ने दुष्कर्म किया था। उनमें से एक पहले अपने घर चली गई थी,जबकि धार में रहने वाली युवती पिछले दिनों अपने घर पहुंची थी। वहां उसने परिजनों को अश्विनी की करतूत के बारे में बताया था। इसके बाद पुलिस ने आनन-फानन में कार्रवाई करते हुए आरोपित अश्विनी को गिरफ्तार कर लिया।