भोपाल। पटरी पार करते समय 14 साल की किशोरी का पैर फिसल गया और वह पटरी के बीच ट्रैक पर गिर गई। इतने में ट्रेन उसके ऊपर से धड़धड़ाती हुई गुजर गई। यह देख प्रत्यक्षदर्शियों के होश उड़ गए। लेकिन शुक्र है कि किशोरी की जान बच गई। हालांकि उसे गंभीर चोटें आई हैं, जिनका इलाज हमीदिया अस्पताल में कराया जा रहा है। घटना मंगलवार शाम पौने चार बजे भोपाल से हबीबगंज स्टेशन के बीच ऐशबाग थाने के सामने की है। किशोरी इसी थाना क्षेत्र में ही रहती है। परिजन घटना को हादसा बता रहे हैं।

किशोरी के पिता ने बताया कि उनकी बेटी कक्षा 9वीं में पढ़ती है। वह मंगलवार स्कूल से घर आई थी। इतने में उसकी सहेली का फोन आ गया। वह सहेली से मिलने पटरी पार कर दूसरी तरफ जा रही थी। इस दौरान उसका पैर अचानक फिसल गया। तभी भोपाल की तरफ से अमरकंटक एक्सप्रेस आ गई। बेटी के पैर व हाथों में चोटें आई है। हादसे के बाद से वह घबराई हुई है।

ट्रेन के गुजरते ही दौड़ पड़े लोग

किशोरी के पिता ने बताया कि उन्हें घटना की जानकारी आसपास के लोगों से पता चली। जब तक वे पहुंचते, आसपास के लोग बेटी को बचाने के लिए दौड़ पड़े थे। सबसे पहले उसे शाकिर अली अस्पताल लेकर गए। उसकी हालत गंभीर थी, इसके कारण डॉक्टरों ने उसे हमीदिया अस्पताल भेज दिया। उसे पुलिस की मदद से हमीदिया अस्पताल में शाम 5 बजे भर्ती कराया है।

परिजन बोले- हादसा है, शिकायत नहीं कराएंगे

इस मामले में परिजनों का कहना है कि उनकी बेटी के साथ हादसा हुआ है। वे कोई शिकायत दर्ज नहीं कराना चाहते। इसके बाद पुलिस ने भी जोर नहीं दिया। हालांकि पूरे मामले में ऐशबाग पुलिस ने किशोरी की मदद की। उसे अस्पताल तक पहुंचाया।

अधिकारी बोले- बहुत कम मामलों में बचती हैं जान

इस संबंध में रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि ट्रेन की चपेट में आने के बाद जान बच पाना बहुत मुश्किल है। वह भी ट्रेन ऊपर से गुजर जाए और जान बचे, ऐसा कम होता है। हालांकि सामने वाले को आभास हो जाता है कि ट्रेन आ रही है और वह ट्रैक के बीच चिपकर लेट जाए तो जान बच जाती है। पूर्व में कुछ मामलों में ऐसा हो चुका है।

घटना हुई थी

घटना सही है। एक किशोरी ट्रेन की चपेट में आ गई थी जिसे चोटें आईं हैं। उसका इलाज हमीदिया में चल रहा है। परिजनों ने किसी भी तरह की शिकायत दर्ज कराने से मना कर दिया है - सलीम खान, सीएसपी जहांगीराबाद, भोपाल