भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

अयोध्या नगर स्थित मिनाल रेसीडेंसी में रहने वाले एक आईटी अफसर ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। उन्होंने ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर यह कदम उठाया। पुलिस ने एक सुसाइड नोट बरामद किया है, जिसमें उन्होंने होमलोन-गोल्डलोन की परेशानियों का जिक्र किया है, लेकिन ब्लैकमेलिंग करने वाले का नाम नहीं लिखा है।

अयोध्या नगर थाना प्रभारी हरीश यादव के अनुसार मूलतः बिहार निवासी 55 वर्षीय अनिल सहाय विंध्याचल भवन में आईटी सेल में अफसर थे। वह मिनाल रेसीडेंसी में अपनी पत्नी नीना सहाय और बच्चियों के साथ रहते थे। बुधवार सुबह उनके मकान से पड़ोसियों को दूध जलने की दुर्गंध आ रही थी। पड़ोसियों द्वारा खटखटाने के बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला तो उन्होंने अनिल की पत्नी नीना को फोन लगाया। उन्हें दूध जलने की बात बताकर कहा कि कोई दरवाजा नहीं खोल रहा है। नीना ने कहा कि आसपास ही अनिल होंगे, आप आवाज लगा लें। इस पर पड़ोसियों ने कहा कि सभी कोशिश कर चुके हैं, दरवाजा अंदर से बंद है। तब नीना दोपहर साढ़े 12 बजे घर पहुंची। घर की दूसरी चाबी से दरवाजा खोला। अंदर जाकर देखा तो अनिल फांसी के फंदे पर लटके हुए थे। सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को बरामद कर उसे पीएम के लिए भिजवाया।

सुबह बस स्टाप तक पत्नी और बच्चों को छोड़ने गए थेः-

टीआई यादव का कहना है कि अनिल की पत्नी नीना ईदगाहहिल्स स्कूल में शिक्षिका है। बड़ी बेटी बेंगलुरु में पढाई कर रही है। छोटी बेटी दसवीं क्लास में पढ़ती है। उसे और अपनी पत्नी को रोजना की तरह अनिल बस स्टॉप तक छोड़ने गए थे। इसके बाद अनिल को घर आते पड़ोसियों ने देखा था।

सुसाइड नोटः होमलोन-गोल्डलोन लिया था, किसी ने छीन लिए एटीएम कार्ड

टीआई हरीश यादव ने बताया कि मृतक के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। जिसे अपनी पत्नी को संबोधित करते हुए लिखा है कि वे अपनी पत्नी और बच्चों को बेहद प्रेम करते हैं, वह आत्महत्या करना नहीं चाहते, लेकिन मजबूरी में यह कदम उठाना पड़ रहा है। उन्होंने होमलोन और गोल्डलोन ले रखा था, इसके एवज में दिए गए चेक बाउंस हो गए थे। उनके एटीएम कार्ड भी जबरन किसी ने छीन लिए थे। उन्हें धमका कर ब्लैकमेल किया जा रहा है। सुसाइड नोट में अनिल ने ब्लेकमेलर का नाम नहीं लिखा है। उन्हें धमकाने और ब्लैकमेल करने वाले के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। परिजन के बयान दर्ज किए जाएंगे। तब भी पता चल पाएगा कि अफसर को क्यों खुदकुशी करनी पड़ी? इसके पीछे कौन है ?

यूपी और राजस्थान में आईएएस और आईपीएस है उनके रिश्तेदार

अनिल सहाय के रिश्तेदार यूपी और राजस्थान में रहते हैं। वे आईएएस और आईपीएस हैं। अनिल की खुदकुशी की जानकारी जैसे ही उन्हें मिली तो उनके फोन कॉल भोपाल पुलिस के आला अफसरों को आने लगे थे। वे यह जानने की कोशिश कर रहे थे कि आखिरकार ऐसा क्या हुआ कि अनिल ने खुदकुशी कर ली।

----

जांच कर रहे हैं

अयोध्या नगर में एक आईटी अफसर ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। उसके पास से एक सुसाइड नोट मिला है। उसकी जांच की जा रही है।

राहुल लोढा पुलिस अधीक्षक