जिला शिक्षा अधिकारी ने दिए बेहतर रिजल्ट लाने के निर्देश

छतरपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

हाई स्कू ल परीक्षा परिणाम को बढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग ने कवायद तेज कर दी है। वर्ष 2018 में जिन विद्यालयों के परीक्षा परिणाम 40 प्रतिशत से कम रहे उनकी एक समीक्षा बैठक में बीईओ व प्राचार्यो की क्लास लेकर जिला शिक्षा अधिकारी ने बेहतर परिणाम लाने के निर्देश दिए।

बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी एसके शर्मा ने कम परीक्षा परिणाम आने के कारणों के संबंध में सभी प्राचार्यों के साथ मिलकर विश्लेषण कि या और बेहतर परिणाम लाने के सुझाव भी लिए। उल्लेखनीय है कि जिले के 23 विद्यालयों का वर्ष 2018 में हाई स्कू ल का परीक्षा परिणाम 40 प्रतिशत से कम रहा है। इन विद्यालयों में अध्यापन कार्य करने वाले शिक्षकों को भी इस बैठक में शामिल करके बेहतर रिजल्ट लाने के संबंध में राय ली गई। चार घंटे तक चली इस बैठक में डीईओ ने दो टूक शब्दों में कहा कि किसी भी दशा में हमें बेहतर रिजल्ट चाहिए। उन्होंने जिले के उत्कृष्ट एवं मॉडल स्कू लों के प्राचार्यों तथा शिक्षकों को भी सचेत कि या कि वे अपने यहां का परीक्षा परिणाम 100 प्रतिशत लाने का भरसक प्रयास करें। यदि ऐसा नहीं हुआ तो संबंधितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने स्पष्ट कि या कि इन विद्यालयों में जिले के चयनित योग्य छात्र पढे के लिए आते हैं। इनसे 100 प्रतिशत परिणाम लाना बहुत ही आसान है। बशर्ते प्रयासों में कोई कमी न छोड़ी जाए। डीईओ श्री शर्मा ने कम परीक्षा परिणाम लाने वाले स्कू लों की नियमित मॉनीटरिंग करने के लिए वहां के बीईओ को जिमेदारी सौंपी तथा प्रतिदिन की रिपोर्ट ई-मेल के माध्यम से भेजने के निर्देश भी दिए। उन्होंने विकासखण्ड शिक्षा अधिकारियों से माह की 1 तारीख को प्रत्येक कर्मचारी की वेतन उसके बैंक खाते में डालने को भी कहा। इस कार्य में सहयोग न करने वाले डीडीओ के अधिकार छीनकर दूसरे को देने की बात पर जोर भी दिया। बैठक में राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के एडीपीसी एचएस दीक्षित, एपीसी रामहित व्यास, उत्कृष्ट स्कू ल के प्राचार्य अशोक खरे, ज्ञानपुंज दल के सदस्य एसएन नायक, राजकु मार शर्मा, खुरशीद अहमद खान, भूपेन्द्र उपाध्याय तथा राजेन्द्र कु मार अनुरागी भी उपस्थित रहे।

40 प्रतिशत से कम रिजल्ट लाने वालों को हिदायत दी

बैठक में 40 प्रतिशत से कम परीक्षा परिणाम लाने वाले स्कू लों के प्रबंधकों को हिदायत देकर कार्य में गुणवत्ता लाने के निर्देश दिए गए। जिन स्कू लों का परीक्षा परिणाम 40 प्रतिशत से कम रहा उनमें बकस्वाहा विकासखण्ड के अंतर्गत हाई स्कू ल मझगुवांघाटी, निवार, गड़ोही, पड़रिया, मड़देवरा, सैड़ारा, कन्या स्कू ल बकस्वाहा, बहौरी के स्कू ल शामिल हैं। इसी तरह बड़ामलहरा विकासखण्ड के अंतर्गत हाई स्कू ल सोरखी, खरदूती, लिधौरा, सूरजपुर कलां, हायर सेकंडरी स्कू ल भगवां। बिजावर विकासखण्ड में हाई स्कू ल शाहगढ़, गुलाट के स्कू ल शामिल हैं। छतरपुर विकासखण्ड के अंतर्गत हाई स्कू ल बौंड़ा, रामपुरढ़िला, नौगांव विकासखण्ड में हाई स्कू ल भदेसर, हायर सेकंडरी स्कू ल अमां, राजनगर विकासखण्ड में हाई स्कू ल सिंगरौं, भैरा, लवकु शनगर विकासखण्ड में ज्योराहा तथा गौरिहार विकासखण्ड में कन्दैला स्कू ल शामिल हैं।

नोट - समाचार के साथ फोटो क्रमांक 10 एनओव्हीसीएच 24 लगाएं।

कै प्सन है -

छतरपुर। बैठक में निर्देश देते अधिकारी।