छतरपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

महर्षि विद्या मंदिर में महर्षि जन्म दिवस 'महर्षि ज्ञान युग दिवस' के रूप में धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर दो दिवसीय कार्यक्रम आयोजित कि ए गए जिसमें स्कू ल के बच्चों ने कई रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कि ए।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश व विधिक सहायता अधिकारी पीके निगम थे। विशिष्ट अतिथि वन संरक्षक अधिकारी राघवेन्द्र सिंह रहे। स्वागत भाषण देते हुए विद्यालय के प्राचार्य सीके शर्मा ने विद्यालय की विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि विद्यार्थियों को संस्कारित करना ही संस्था का मुख्य उददेश्य है। चेतना विज्ञान से संस्कारित विद्यार्थी अपने परिवार व समाज की स्थापना करेगें जहां सुखी, स्वस्थ्य, शांतिपूर्ण और आनंदमय माहौल होगा। कार्यक्रम का प्रारम्भ दीप प्रज्ज्वलित करके गुरुपूजा व सरस्वती वंदना से की गई। इस दौरान बच्चों ने गीता श्लोकों का वाचन कि या। रामायण, महाभारत पर प्रांसगिक नृत्य नाटिका की शानदार प्रस्तुति दी। इसके साथ ही भारतीय संस्कृति के प्रेरणादायक गीतों व नृत्यों सहित देशभक्ति से ओत प्रोत गीतों व नृत्यों की प्रस्तुतियों ने सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। संक्षिप्त उदबोधन में मुख्य अतिथि ने कहा कि अभिभावकों को चाहिए कि वे बच्चों को छात्र जीवन में मोबाइल तथा साइबर क्राइम से दूर रखे तथा 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को वाहन चलाने के लिए न दें।

भावातीत ध्यान से होता है नई ऊर्जा का संचार

दो दिवसीय कार्यक्रम की ही कड़ी में महर्षि विद्या मंदिर में आयोजित एक अन्य कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि दुर्गेश खरे ने भावातीत ध्यान पर प्रकाश डालते हुए कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को सुबह शाम ध्यान जरूर करना चाहिए जिससे समाज में नई ऊर्जा का संचार हो, मन में शांति हो तभी विश्व में शांति आएगी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हरिप्रकाश अग्रवाल ने भी सारगर्भित विचार रखे। इसके पूर्व मशाल प्रज्ज्वलित करके शहीदों के चित्रों पर श्रद्धा सुमन अर्पित कि ए गए, तत्पश्चात सामूहिक रुप से सूर्य नमस्कार व भावातीत ध्यान का आयोजन कि या गया। स्कू ल के बच्चों ने गीत संगीत की मनमोहक प्रस्तुतियां दीं। विद्यालय के प्राचार्य सीके शर्मा अंत में आभार प्रदर्शन करते हुए कहा कि ध्यान से मन में शांति आती हैं और हर क्षेत्र में व्यक्ति उत्तम कार्य करता हैं, जरुरी है कि छात्र जीवन से ही भावातीत ध्यान पर फोकस कि या जाए।

नोट - समाचार के साथ फोटो 22 और 23 लगाएं, कै प्सन है -

छतरपुर। विद्यालय की पित्रका का विमोचन करते अतिथि।- 22

छतरपुर। रंगारंग प्रस्तुतियां देते स्कू ल के बच्चे।- 23

--------------------------