Naidunia
    Sunday, December 17, 2017
    PreviousNext

    अतिथि शिक्षक झाड़ू बेचने को मजबूर, अधिकारी मौन

    Published: Fri, 08 Dec 2017 09:12 AM (IST) | Updated: Fri, 08 Dec 2017 09:12 AM (IST)
    By: Editorial Team
    07 decch 08 08 12 2017

    प्रधानाध्यापक के फरमान से नियम विरुद्घ तरीके से गई नौकरी

    बड़ामलहरा। नईदुनिया न्यूज

    सरकार व सरकार के शिकायती प्रकोष्ठ और जनसुनवाई शिविर कितने सार्थक हैं ये इस सच्चाई से उजागर हो रहा है कि एक अतिथि शिक्षक को प्रधानाध्यापक के फरमान से एक ही पल में बेरोजगार बना दिया गया। अब मजबूर शिक्षक को अपने परिवार के जीवकोपार्जन के लिए झाड़ू बेचकर किसी तरह गुजारा करना पड़ रहा है।

    जानकारी के अनुसार बीए व बीएड की डिग्री वाले हरीराम पुत्र जलमा अहिरवार निवासी वार्ड क्रमांक 10 घुवारा का चयन वर्ष 2013 में अतिथि शिक्षक के पद पर हुआ था। उसे शासकीय माध्यमिक शाला बंधा चन्दौली में पदस्थ किया गया। उसने पूरे सत्र में पूरी ईमानदारी से बच्चों को पढ़ाया, जिसका संकुल द्वारा प्रतिमाह अध्यापन कार्य दिवस अनुसार पे बिल के माध्यम से मानदेय का भुगतान भी किया गया। शिक्षा सत्र 2017 का अक्टूबर माह तक का मानदेय नवंबर माह के पेबिल पर दर्ज किया जा चुका है, जिसका भुगतान अभी नहीं हुआ और शिक्षक पर असली आफत तब आई जब माध्यमिक शाला बंधा चंदोली में पदस्थ प्रधान अध्यापक मार्टिन तिर्की ने उसे नवंबर माह में स्कूल न आने का फरमान सुना दिया। अतिथि शिक्षक के पद से उसे अकारण पृथक करके प्रधानाध्यापक ने उसके स्थान पर वर्षा साहू नाम की अप्रशिक्षित आवेदक को बतौर अतिथि शिक्षक के पद पर नियुक्त कर दिया। इस फरमान से हरीराम बेरोजगार हो गया है।चार वर्ष से बंधा चंदोली के स्कूल में निष्ठापूर्वक अध्यापन का कार्य कर रहे अतिथि शिक्षक को नियम विरुद्घ तरीके से निकाले जाने पर उसने अधिकारियों को कई शिकायती आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है, लेकिन अधिकारियों की बेपरवाही से अतिथि शिक्षक झाड़ू बेचने को मजबूर है ताकि वो अपने परिवार का पेट पाल सके। हरीराम ने बताया कि उसने उसी स्कूल में पुनः रखे जाने के लिए संकुल प्राचार्य, बीईआ,े एसडीएम, डीपीसी, जिला शिक्षा अधिकारी छतरपुर और कलेक्टर को आवेदन पत्र देकर अपनी व्यथा सुनाई लेकिन कोई हल नहीं निकला है। उसने बताया कि आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय, राज्य शिक्षा केंद्र, सीएम हेल्पलाइन में आवेदन दिए जन सुनवाई में छतरपुर जाकर फरियाद की लेकिन समस्या का हल नहीं हो पाया।उसने अधिकारियों व मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगाई है।

    नोट समाचार के साथ फोटो 08 का केप्सन है

    बड़ामलहरा। बाजार में झाड़ू बेचते अतिथि शिक्षक।

    और जानें :  # chhaterpur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें