Naidunia
    Thursday, April 26, 2018
    PreviousNext

    नियमितीकरण की मांग को लेकर संविदा प्रेरकों ने सौंपा ज्ञापन

    Published: Wed, 18 Apr 2018 01:17 AM (IST) | Updated: Wed, 18 Apr 2018 01:17 AM (IST)
    By: Editorial Team
    17 aprch 05 18 04 2018

    छतरपुर। साक्षर भारत योजनांतर्गत कार्यरत साक्षरता प्रेरकों ने नियमितीकरण की मांग को लेकर लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रघु ठाकुर को चार सूत्रीय ज्ञापन सौंपा है।

    प्रेरक संघ के मीडिया प्रभारी संदीप गुप्ता ने बताया कि साक्षर भारत योजना के अतंर्गत कार्यरत समस्त प्रेरकों की नियुक्ति मध्यप्रदेश शासन के नियमानुसार राज्य शिक्षा केन्द्र पुस्तक भवन, बी-विंग अरेरा हिल्स भोपाल के प्रकाशित विज्ञापन के अनुसार की गई जिसमें मध्यप्रदेश में संचालित साक्षर भारत योजनान्तर्गत 42 जिलो में जिला प्रौढ़ शिक्षा कार्यालय के अंतर्गत पंचायत स्तर पर स्वीकृत प्रति पंचायत प्रौढ़ शिक्षा केन्द्र स्थापित किए गए है, जिसमें प्रौढ़ केन्द्र के अंतर्गत प्रेरक के दो पद मध्यप्रदेश शासन की मंशानुसार सृजित कर स्वीकृत किए गए हैं। जिसमें 01 पद अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अथवा अल्पसंख्यक वर्ग का मध्यप्रदेश लोक सेवा के आरक्षण नियम 1998 के नियम 04 के अंतर्गत रोस्टर प्रणाली राज्य शिक्षा केन्द्र से लागू की गई और एक पद अनारक्षित श्रेणी के लिए रखा गया। यह पद संविदा आधार पर स्वीकृत किए गए। साक्षर भारत योजना में कार्यरत प्रेरकों को चार प्रकार के दायित्व दिए गए है, जिसमें पहला दायित्व निरक्षर लोगों को साक्षर करने का है, नवसाक्षर को समतुल्यता प्रदान कर औपचारिक शिक्षा से जोड़ना, जीवन कौशल का विकास करना ताकि उनके जीवन स्तर में उन्नयन एवं जीवकोपार्जन संसाधनों का विकास हो सके। इसके अतिरिक्त राज्य सरकार एवं केन्द्र सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार के दायित्व जैसे बूथ लेबिल अधिकारी बी.एल.ओ. का कार्य, मन की बात का रेडियो प्रसारण, सूचना खिड़की, शौचालय का निर्माण एवं हितग्राही को शौचालय का उपयोग करने के लिए प्रेरित करने का कार्य, चुनाव में ड्यूटी का कार्य, शासन की महत्वाकांक्षी योजना-प्रधानमंत्री आवास योजना की जानकारी हितग्राही को देने का कार्य, ग्राम पंचायत में सर्वे का कार्य इत्यादि कार्य प्रेरक के माध्यम से संपादित किए जाते हैं। शासन द्वारा प्रेरकों को अल्प मानदेय मात्र 2000 रुपए प्रतिमाह मिलता है जो कि म.प्र. शासन द्वारा निर्धारित कृषि मजदूरों से भी कम है। पूरे प्रदेश में कार्यरत प्रेरक अति कुशल श्रेणी के है लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा प्रेरकों के साथ अन्याय किया जा रहा है। प्रदेश सरकार के विभिन्न कार्यक्रमों में दायित्वों का बखूबी निर्वहन किए जाने के बावजूद उन्हें बहाल नहीं किया जा रहा है। ज्ञापन कार्यक्रम में रामप्रकाश गुप्ता वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता, जीतेन्द्र सिंह घोष संरक्षक, राजेश अहिरवार जिला अध्यक्ष, संदीप गुप्ता मीडिया प्रभारी, मो. इकराम डारेक्टर एसबीआई स्वय सेवी संस्था, महेश प्रजापति, मुकेश मिश्रा, श्रीमती सुषमा, पुष्पा नामदेव, कुंवर देवी सहित अनेक प्रेरक शामिल रहे।

    नोट समाचार के साथ फोटो 05 का केप्सन है

    छतरपुर। राष्ट्रीय अध्यक्ष का स्वागत करते प्रेरक संघ पदाधिकारी।

    और जानें :  # chhaterpur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें